सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

जन्म के समय वो निर्मला नागपाल थीं.. बाद में रोशन खान ने निकाह कर के उन्हें बनाया था सरोज खान

Bollywood में कई अन्य की तरह इन्होंने भी बदल लिया था धर्म.

Rahul Pandey
  • Jul 4 2020 5:50AM

बॉलीवुड की नामचीन हस्ती इनका नाम सरोज खान था उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दीया। उनके निधन के बाद बॉलीवुड में  शोक की लहर दौड़ गई है और उन्हें देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर के सिनेमा प्रेमियों की तरफ से श्रद्धांजलि दी जा रही है। अमूमन उनकी चर्चा मृत्यु के बाद उनके सिखाए गए नृत्य और उनकी बेजोड़ कोरियोग्राफी के लिए की जा रही है लेकिन बहुत कम लोग जानते होंगे कि उनके साथी इतिहास जुड़ा है जो वर्तमान भारत की एक बहुत बड़ी सच्चाई भी है। यह सच्चाई है धर्मांतरण की   इसमें विशेष रूप से महिलाओं का हिंदू से मुसलमान बन जाना आए दिन देखने को मिलता है। इतिहास के उस सच्चाई का   वर्तमान प्रतिबिंब की सरोज खान जिसे संभवत बहुत कम लोग जानते होंगे ।

 वर्ष 1975 में रोशन खान से निकाह करने से पूर्व सरोज खान   निर्मला नागपाल  हुआ करती थी। तब तक के लिए बॉलीवुड में   ना बहुत ज्यादा काम मिलता था और ना ही बहुत ज्यादा प्रसिद्धि मिली थी लेकिन जैसे ही उन्होंने रोशन खान से निकाह करके   इस्लाम कबूल करते हुए अपने नाम में खान शब्द जोड़ा वैसे ही इनकी बुलंदी का सितारा आसमान में पहुंच गया और ना जाने उस खान शब्द में ऐसा क्या था जो इन्हें फर्श से अर्श पर पहुंचा दिया।   यदि इनमें वही गुण वही कला वही योग्यता निर्मला नागपाल के रूप में भी थी लेकिन इन्हें बॉलीवुड में नाम और पहचान के साथ काम भी तब विशेष रूप से मिला जब उन्होंने अपने साथ खान शब्द जोड़ते हैं खुद को सरोज खान के रूप में स्थापित किया और कहीं दूर किसी कोने में उनका मूल नाम निर्मला नागपाल धरा का धरा रह गया।

सरोज खान का असली नाम निर्मला नागपाल है। उनके पिता का नाम किशनचंद सद्धू सिंह और मां का नाम नोनी सद्धू सिंह है। भारत-पाकिस्तान के बटवारे के बाद सरोज खान अपने परिवार के साथ पाकिस्तान से भारत आ गई थीं।कोरियॉग्रफर सरोज ने डांस की ट्रेनिंग बी सोहनलाल से ली थी। इसी दौरान वह और सोहनलाल एक दूसरे के करीब आए। इसके बाद सरोज ने सोहनलाल से शादी कर ली।  एक बार सरोज खान ने अपनी शादी को लेकर बात करते हुए एक इंटरव्यू में बताया था- 'मैं उन दिनों स्कूल में पढ़ती थी। तभी एक दिन मेरे डांस मास्टर सोहनलाल ने गले में काला धागा बांध दिया था और मेरी शादी हो गई थी।

सोहनलाल से अलग होने के बाद सरोज खान ने रोशन खान से शादी कर ली थी जो अपने नाम के आगे सरदार शब्द लगाता था. अमूमन उंसको लोग सरदार रोशन कह कर बुलाते थे लेकिन वो असल मे रोशन खान थे. निकाह के बाद दोनों की एक बेटी सुकीना खान है। जबकि रोशन  खान की भी शादी हो चुकी थी और उनके दो बच्चे भी थे, लेकिन उन्हें सरोज बेहद पसंद थीं। रोशन खान ने सरोज से शादी की और उनके बच्चों को अपना नाम भी दे दिया। हैरान कर देने वाले एक इंटरव्यू में सरोज ने बताया था कि वे और रोशन की पहली पत्नी, बहन की तरह रहती हैं। एक इंटरव्यू के दौरान सरोज खान ने बताया था कि शादी के बाद उन्होंने इस्लाम कुबूल किया था इसके साथ ही, सरोज खान ने अपने एक सपने के बारे में भी बताया। वो बताती हैं कि उन्हें सपने में एक बच्ची मस्जिद के अंदर से पुकारती थी। सपने में वो बच्ची सरोज खान को अपनी मां बताती थी और बार-बार उन्हें पुकारती थी। सरोज खान को वो सपना कई बार आता था। ऐसे में उन्होंने इस्लाम को कुबूल किया।

फिलहाल शुक्रवार देर रात कार्डियक अरेस्ट के चलते 71 साल की सरोज खान का निधन मुंबई में हो गया। उन्हें काफी समय से सांस लेने में तकलीफ थी इसी वजह से उन्हें 17 जून से मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। फिलहाल सुदर्शन न्यूज़ परिवार पूर्व निर्मला नागपाल सरोज खान को उनके निधन पर भावभीनी श्रद्धांजलि समर्पित करता है और उनके संघर्ष के साथ साथ उनके सच्चे इतिहास को देश और दुनिया के सामने रख रहा है।

 

 

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार