सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

भारतीय उद्योगपतियों के खिलाफ भारत में ही मचे वामपंथी कोहराम का असर... दुनिया के शीर्ष 10 अमीरों की लिस्ट से बाहर हुए भारत के मुकेश अम्बानी

भारत के उद्योगों के खिलाफ भी अक्सर खड़े दिखाई देते हैं वामपंथी.

Rahul Pandey
  • Dec 27 2020 12:28PM

अक्सर यूनियन आदि में ये समूह फैक्ट्रियो आदि में तालाबंदी करवाता दिख जाएगा. लाल रंग के झंडे ले कर कभी जिलाधिकारी और प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यालयों के आगे तो कभी टोल बूथों पर खड़े दिखाई देने के साथ JNU और AMU में उन्मादी नारे लगाने वाले वामपंथियो की एक पहल आख़िरकार सफल होती दिखाई दे रही है.

भारत में ही रह कर भारत के उद्योगपतियों के खिलाफ कभी अल्पसंख्यको के बहाने तो कभी किसानो की आड़ में अपना एजेंडा चलाने वाले वामपंथियो द्वारा लगातार उठाये जा रहे बॉयकाट के अभियान का जमीनी असर साफ दिखाई देने लगा है. वर्तमान में चल रहे किसान आन्दोलन में भी प्रधानमन्त्री और कृषि बिल के अलावा जो नाम गूंजता रहा वो अम्बानी और अडानी ही था. 

इस मामले का अध्ययन करने वाली संस्था के अनुसार ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के आंकड़ों के मुताबिक मुकेश अंबानी अब कुल 5.72 लाख करोड़ रुपये के साथ दुनिया के अमीरों की लिस्ट में 11वें नंबर पर हैं, जो इस वर्ष की शुरुआत में लगभग 6.62 लाख करोड़ रुपये से कम है।

वर्तमान में अंबानी, सेर्गेई ब्रिन व लैरी एलिसन के बाद 11 वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं.नेटवर्थ में गिरावटकोविड-19 महामारी (Covid-19) के दौरान भी इस साल मुकेश अंबानी की कमाई में कमी नहीं आई. आरआईएल का शेयर सितंबर में 2,369.35 रुपये पर पहुंच गया था जो रिकॉर्ड हाई था। उसके बाद करीब 19 फीसदी नीचे गिरकर 1998.10 रुपये का भाव रह गया। हालांकि, इस दौरान मुकेश अंबानी की दौलत स्थिर ही रही है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार