सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

विश्व की दो सबसे बड़ी सेनाओं के बीच गलवान घाटी में हिंसक झड़प, कर्नल सहित तीन जवान वीरगति को प्राप्त , चीन के 5 जवानों की मौत 11 गंभीर रूप से घायल

विश्व की दो सबसे बड़ी सेनाओं के बीच गलवान घाटी में हिंसक झड़प, कर्नल सहित तीन जवान वीरगति को प्राप्त , चीन के 5 जवानों की मौत 11 गंभीर रूप से घायल

Mukesh Kumar
  • Jun 16 2020 7:47PM

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत में उच्चस्तरीय बैठकों का दौर जारी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर तीनों सेना प्रमुख और सीडीएस की बैठक हुई। बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर भी मौजूद रहे। इस बैठक के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और एस जयशंकर ने प्रधानमंत्री मोदी से भी मुलाकात की। मुलाकात के बीच गलवान घाटी में दोनों तरफ से सेनाओं का जमावड़ा लगा हुआ है । भारत और चीन दोनां की सेनाएं सीमा पर डटी हुई है।  दूसरी तरफ चीन में उच्च स्तरीय बैठक हुई है लेकिन फिलहाल बैठक के नतीजों के बारे में कुछ भी पता नहीं चल पाया है। दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव कम करने की कोशिश चल ही रही थी । 
कई दिनों से बॉर्डर तक तनातनी के बीच चीन को हिन्द के जवानों ने सबक सिखा दिया है। दादागीरी दिखा रहे चीन को अब हिन्दुस्थान की ताकत का अहसास हो गया है। दरअसल जिस गलवान घाटी पर चीनी सैनिकों ने पीछे हटने का दावा किया था। वहीं चीन ने एक बार फिर धोखा दिया और इस बार उसे धोखे की सज़ा भी मिल गई। गलवान घाटी पर सोमवार रात को भारतीय सैनिक और चीनी सैनिक के बीच हिंसक झड़प हुई। इस झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं। जबकि चीन के 5 सैनिक मारे गए और 11 सैनिक बुरी तरह घायल हो गए। इस बात का दावा चीनी के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने किया है। भारत से मात खाने के बाद अब चीन बातचीत करने को तैयार हो गया ह और बातचीत से मामले को शांत करना चाहता है। 
इस झड़प के दौरान किसी तरह की कोई गोली नहीं चली है, यानी हाथापाई ही हुई है सूत्रों की मानें, तो चीनी सैनिकों ने इस दौरान कीलें लगी लठों से जवानों पर हमला किया। जिसके बाद हिन्द के जवानों ने उन पर दोहरा वार किया...चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर पत्थरबाजी की, उनके पास लोहे के नाल, कीलें और लठ से भारत के सेना पर हमला किया। जो अफसर इस मामले को लीड कर रहे थे, उन्हें इसी पथराव-झड़प में काफी गहरी चोट आई हैं। वहीं भारतीय जवानों के हमले में 5 चीनी सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि खुद चीन की तरफ से की गई है। .इस बीच चीन ने उल्टा भारत पर इल्जाम लगाना शुरू कर दिया है। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत की ओर से घुसपैठ की कोशिश की गई।  जिसके बाद दोनों देशों के सैनिकों में भिड़ंत हुई। अब हम भारत से अपील करते हैं कि एकतरफा एक्शन ना लें इस पूरे मामले को लेकर भारतीय सेना की ओर से जारी किए गए आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई । भारत और चीन के बीच मई महीने की शुरुआत से ही लद्दाख बॉर्डर के पास तनावपूर्ण माहौल बना हुआ था. चीनी सैनिक लगातार एनएसी पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे । वे गलवान घाटी के पास टेंट और तंबू तक गाड कर बैठ गए थे.।.लेकिन जब दोनों देशों के बीच शांति वार्ता हुई तो चीन पीछे हट गया। लेकिन उसकी पुरानी फितरत धोखा देने की रही है पीछे हटकर भी चीन ने अपना असली चेहरा दिखाने की कोशिश की लेकिन उसे कड़ा जवाब मिल गया है। भारतीय जवानों ने चीन का हिसाब बराबर कर दिया है।

 

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें