सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Aryan Khan Drugs case - NCB ने Prabhakar के एफिडेविट पर पूजा को घेरा, कहा - गवाह को प्रभावित कर रही है शाहरुख खान की मैनेजर

एनसीबी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में हलफनामा दिया है कि उन्हें शाहरुख खान की मैनेजर पर शक है। प्रभाकर के पलटने के बाद उन्हें ऐसा लग रहा है कि पूजा ददलानी गवाह को प्रभावित करने की कोशिश कर रही हैं। केस के गवाह प्रभाकर ने अपने एफिडेविट में 38 लाख रुपये के लेन-देन और पूजा ददलानी का जिक्र किया है।

Prem Kashyap Mishra
  • Oct 26 2021 8:00PM
आर्यन खान केस में गवाह प्रभाकर के एफिडेविट के आधार पर एनसीबी ने अब शाहरुख खान की मैनेजर को घेरा है। एनसीबी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में हलफनामा दिया है कि उन्हें शाहरुख खान की मैनेजर पर शक है। प्रभाकर के पलटने के बाद उन्हें ऐसा लग रहा है कि पूजा ददलानी गवाह को प्रभावित करने की कोशिश कर रही हैं। केस के गवाह प्रभाकर ने अपने एफिडेविट में 38 लाख रुपये के लेन-देन और पूजा ददलानी का जिक्र किया है। एनसीबी ने इसी एफिडेविट के आधार पर कहा है कि उन्हें लगता है कि पूजा गवाहों को प्रभावित कर रही हैं। ड्रग केस के जांच अधिकारी वीवी सिंह ने आर्यन की बेल के विरोध में जवाब दिया है कि आर्यन प्रभावशाली हैं। वह जांच को प्रभावित कर सकते हैं। अगर सिर्फ प्रभाकर साइल वाली घटना को ही देखा जाए तो उनकी बेल रिजेक्ट हो जानी चाहिए।

क्या है प्रभाकर का एफिडेविट
प्रभाकर ने एफिडेविट में दिया है, कुछ देर बाद एक नीली मर्सिडीज कार आई जिसमें मैंने पूजा ददलानी को देखा। सैम, केपी गोसावी और पूजा ददलानी गाड़ी में बैठकर बात करने लगे। सभी 15 मिनट बाद निकल गए। इसके बाद हम सभी 15 मिनट बाद निकल गए। केपी गोसावी और मैं मंत्रालय पहुंचे। केपी गोसावी और मैं मंत्रालय पहुंचे। केपी गोसावी ने किसी से बात की फिर वासी पहुंचे। इसके बाद केपी ने मुझसे इनोवा गाड़ी लेकर इंडियाना होटल के पास 50 लाख रुपये लेने के लिए भेजा। मैं वहां 9: 45 पर पहुंचा। वहां एक सफेद कार आई। मुझे दो बैग दिए गए जिसमें कैश भरा था। जिसे ले जाकर मैंने किरन गोसावी को दिए।

सुनवाई से पहले क्यों आया ऐसा डॉक्यूमेंट?

एनसीबी ने आर्यन खान के बेल ऐप्लिकेशन के विरोध में जवाब फाइल किया है। इसमें लिखा है कि इस केस की जांच को गलत भावना से प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है।  एफिडेविट में लिखा है, 23 अक्टूबर 2021 को प्रभाकर साइल के कथित एफिडेविट से यह बात साफ जाहिर होती है। जब मामला विचाराधीन है तो किसी  कोर्ट में सुनवाई के पहले ऐसा डॉक्यूमेंट फाइल नहीं किया जाता है। हैरानी की बात यह है कि इसको मीडिया में भी चुपचाप खूब फैलाया गया। इसको देखते हुए ऐसा लग रहा है कि जांच के बीच शाहरुख की मैनेजर ने गवाह को प्रभावित किया है। साफ दिख रहा है कि जांच को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है, सिर्फ इसी आधार पर बेल रिजेक्ट हो जानी चाहिए।

प्रभाकर साइल ने कही थी डील की बात

प्रभाकर साइल जो कि ड्रग केस के गवाह नंबर 1 हैं, उन्होंने एफिडेविट देकर दावा किया था कि उस रात उनसे ब्लैंक पंचनामा पर दस्तखत करवाए गए। प्रभाकर ने दावा किया था कि वह केपी गोसावी के बॉडीगार्ड रह चुके हैं। उन्हीं के कहने पर रेड वाले दिन टर्मिनल पर पहुंचे थे। केपी गोसावी भी इस केस के गवाहों में से एक हैं। प्रभाकर ने ये भी दावा किया था कि उन्होंने इस केस में 25 करोड़ रुपये वसूली की बात सुनी थी। 18 करोड़ में बात तय होने पर 8 करोड़ रुपये एनसीबी अफसर समीर वानखेड़े को दिए जाने थे।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार