सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

फलों, सब्जियों पर थूकने व् पेशाब करने की घटनाएं भारत में ही नहीं.. 2015 में ब्रिटिश पुलिस ने पकड़ा था अब्दुल और अमजद को जो खाने में मिला कर बेचते थे इंसान का मल

क्या ये पहली घटना थी ..जी नही ..

Sudarshan News
  • Apr 22 2020 3:29PM
आये दिन फलों सब्जियों पर जिस प्रकार से थूकने के वीडियो वायरल हो रहे हैं उसके बाद सवाल उठने लगे हैं कि क्या ये सिर्फ एक जगह या एक इलाके की बात है ? जब इसकी पड़ताल की गई तो ये पाया गया कि ऐसी घटना दुनिया के और भी कई कोनो में हुई है. इसमें सबसे ज्यादा चर्चित घटना ब्रिटेन की है जहाँ पर कवाब बेचने वाली दूकान में इंसान का मल ग्राहकों को खिलाने की बात सामने आने के बाद पूरे ब्रिटेन में हाहाकार मच गया था और वहां पर खाने पीने आदि की दुकानों को ले कर व्यापक बदलाव हुए थे.. जानिए वर्ष २०१५ की वो घटना जिसको अब तक याद करते हैं ब्रिटेन वाले .

ये घटना भारत में हो रही तमाम घटनाओं से काफी मिलती जुलती हैं. ब्रिटेन की समाचार एजेंसी में वर्ष २०१५ में छपी खबर के अनुसार मानव मल मिलाकर खाना परोसने वाले मोहम्मद अब्दुल बासित और अमजद भट्टी को गिरफ्तार किया गया था.. ये खबर 26 सितम्बर २०१५ को प्रकाशित की गई थी जो दुनिया भर में वायरल हुई थी. बताया जा रहा था कि इस घटना के पर्दाफाश होने के बाद ब्रिटेन वालों ने माना था कि ये तो हद ही हो गई । यहां रेस्टोरेंट के मालिक मोहम्मद अब्दुल बासित और अमजद भट्टी उन्ही को खाने में इंसान का मल मिला कर खिला रहे थे जो गैर मुसलमान हुआ करते थे. 

मोहम्मद अब्दुल बासित और अमजद भट्टी (तस्वीर देखें)  लम्बे समय से ब्रिटेन के नॉटिंघम में होटल चला रहे थे । इस रेस्टोरेंट में लोग बैठकर भी खाना खाते थे और पैक करके घर भी ले जाते थे । डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार, इनके लगभग 50 ग्राहकों ने अलग अलग तरह के इन्फेक्शन की बात डाक्टरों से कही, जब जांच की गयी तो पता चला की सबको Food Poisoning है, जांच में खुलासा हुआ कि जो खाना इन लोगो ने खाया था उसमे इंसानी मल था .. एक 13 साल की लड़की को तो ऐसा इन्फेक्शन हो गया की उसे आईसीयू में एडमिट करवाना पड़ा, डाक्टरों ने बड़ी मशक्कत कर उसकी जान बचाई ।

जांच में पता चला कि सभी बीमार लोगों में एक ही चीज़ कॉमन है और वो ये की इन सभी ने ब्रिटेन के नॉटिंघम में खैबर पास कबाब शॉप से खाना ख़रीदा था । फिर जांच टीम अचानक इस होटल में भी पहुँच गयी और बने हुए खाने को जब्त किया गया तो पता चला की उसमें भी इंसानी मल मिला हुआ था. जानकारी ये भी मिली थी कि होटल में 2 अलग अलग जगह पर खाना बन रहा था, एक जगह पर स्वच्छ खाना बन रहा था व दूसरे में मानव मल वाला, ये उन्मादी अपने मजहब वालों को छोड़कर बाकी सभी अन्य मत मजहब वाले लोगों को मानव मल वाला खाना खिलाते थे। इसके बाद काफी समय तक न सिर्फ ब्रिटेन में बल्कि दुनिया भर में होटल और ढाबों में खाना खाने वाले लोगों को विशेष सावधान रहने की जरूरत पर जोर दिया गया था. 

नीचे देखिये उस प्रतिष्ठित समाचार का लिंक -

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार