सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

स्विट्जरलैंड में बुर्का बैन को पक्ष और विपक्ष दोनों का समर्थन.. वहां नही हैं देश के दुश्मनों के पैरोकार

जनता ने ही तय कर दिया की अब विशेष वर्ग नहीं पहनेंगा बुर्का या नकाब ,लेकिन वहां सेक्युलरिज़्म जैसी कोई बात नहीं थी

Khiladi
  • Mar 8 2021 4:50PM
कटटरपंथ की आग से बचने के लिए स्विटरज़लैंड की सरकार ने बुर्का व नकाब पर बैन लगाने के फैसला किया है.स्विट्ज़रलैंड की सरकार का ये फैसला जनमत संग्रह के बाद लिया गया है,बुर्के व नकाब को बंद करने की आवाज सबसे पहले राइट विंग की स्विस पीपल्स पार्टी ने उठायी थी ,इसके लिए उसने बुर्के के खिलाफ कैंपेन भी चलाया था ,जनमत संग्रह से पहले पार्टी की तरफ से जगह-जगह बिलबोर्ड लगाए गए थे, स्विस पीपल्स पार्टी के सांसद और रेफरेंडम कमेटी के सदस्य वाल्टर वॉबमन  ने लोगों से खुलकर अपनी राय व्यक्त करने की अपील करते हुए कहा था कि स्विट्जरलैंड में चेहरा दिखाने की परंपरा है, ये हमारी मूलभूत स्वतंत्रता का संकेत है.

सांसद ने  बुर्का पहने महिला की तस्वीर के साथ अतिवाद को रोकने की बात कही गई थी,इसके बाद पुरे स्विट्ज़रलैंड में जनमत संग्रह कराया गया ,जनमत संग्रह में करीब आधे से अधिक लोगो ने बुर्क़ा व नकाब को रोकने के लिए अपना वोट दिया,लेकिन अगर इसके विपरीत भारत में कोई ऐसी मांग की जाये तो देश के सेक्युलरलिज्म खतरे में पड़ जायेगा    

हाल में स्विट्ज़रलैंड की सरकार ने भी बुर्का बैन करने का प्रस्ताव रखा था,इसके बाद स्विट्ज़रलैंड के कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन आग की तरह सुलग गये थे ,इस संबंध में रविवार को कराए गए जनमत संग्रह में अधिकांश लोगों ने बुर्का पर बैन के पक्ष में मतदान किया. जनमत संग्रह में देशवासियों से पूछा गया था कि क्या बुर्का और नकाब पर बैन लगाया जाना चाहिए? जिसका वहा की जनता ने बुर्का बैन करने का समर्थन किया ,इसलिए सरकार अब जल्द ही बुर्के व नकाब पर बैन लगा सकती है ,

आपको बता दे की स्विट्ज़रलैंड कोई पहला देश नहीं है जिसने पहली बार बुर्का या नकाब पहनने पर रोक लगायी हो ,इससे पहले डेनमार्क, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड्स और बुल्गेरिया आदि और देश है जिन्होंने बुर्का व नकाब पर रोक लगा रखी है,ये सभी वो देश है जो आतंक के जहर से लील गए है,इसलिए इन देशो ने अपनी सुरक्षा को निश्चित रखते हुए बुर्के पर बैन लगा रखा है,ऐसी ही कुछ आवाज देश  में लगातार उठती रही है ,लेकिन देश में अभी तक कोई ऐसा साहसिक  कदम तक उठ नहीं  पाया है ,

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार