सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

शांति की मीटिंग वो बुलाये थे जिन्होंने दुनिया भर में फैला रखी है अशांति.. नतीजा सब को पहले से पता था

शांति समझौते से ज्यादा,तालिबान और पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय बलों की वापसी में रुचि

Sudarshan News
  • Sep 29 2020 5:19PM
तालिबान और पाकिस्तान एक शांति समझौते से अधिक अफगानिस्तान से अंतर्राष्ट्रीय बलों की वापसी में रुचि रखते हैं। एक पूर्व पाकिस्तानी राजनयिक ने कहा है कि दोहा में चल रही शांति वार्ता विफलता की ओर बढ़ रही है। मैं वार्ता के परिणाम को लेकर आशावादी नहीं हूं। अमेरिका ने सभी प्रमुख रियायतों को सामने रखा है। तालिबान जानता है कि अमेरिका अफगानिस्तान से हटने के लिए उत्सुक है। जैसा कि वे इसे देखते हैं, वे सिर्फ विदेशी ताकतों की वापसी और यथास्थिति बहाल करने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने कहा कि यह बात बाकी अफगानों के लिए अस्वीकार्य है, हक्कानी ने ब्रिटिश हाउस ऑफ लॉर्ड्स इंटरनेशनल रिलेशंस एंड डिफेंस कमेटी के समक्ष एक गवाही में कहा। वियतनाम में युद्ध के अंत में पेरिस शांति वार्ता के साथ तालिबान की ओर अमेरिका बातचीत रणनीति के बीच समानताएं हुए उन्होंने कहा कि उसके बाद हेनरी किसिंजर ने कहा कि वह अमेरिका वापसी और अमेरिकी समर्थित सरकार को गिराने के बीच एक सभ्य अंतराल चाहता है उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की सरकार दक्षिण वियतनाम में अमेरिका के समर्थन वाली सरकार से ज्यादा मजबूत साबित हो सकती है और वह भारत समेत अन्य देशों की मदद से बहुपक्षीय अफगानिस्तान के लिये लड़ सकती है।

राष्ट्रपति (डोनाल्ड) ट्रम्प परिणामों की परवाह किए बिना वापस लेना चाहते हैं। अगर ऐसा होता है, तो काबुल में पाकिस्तान समर्थित तालिबान मार्च सबसे संभावित परिणाम है। जैसा कि यह संभावना नहीं है कि अफगानिस्तान के लोग तालिबान की सत्ता में वापसी स्वीकार करेंगे, तो फिर से एक बार गृह युद्ध हो सकता है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार