सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

चाइनीज कंपनी Huawei और ZTE पर अमेरिका ने लगाया बैन

भारत में 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के बाद अमेरिका के फेडरल कम्युनिकेशं​स कमिशन (FCC) ने 30 जून को चीनी टेलिकॉम वेंडर्स Huawei Technologies और ZTE Corporation पर पर बैन लगा दिया है.

Abhishek Lohia
  • Jul 3 2020 11:42PM
भारत में 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के बाद अमेरिका के फेडरल कम्युनिकेशंस कमिशन (FCC) ने 30 जून को चीनी टेलिकॉम वेंडर्स Huawei Technologies और ZTE Corporation पर पर बैन लगा दिया है. US FCC ने कहा इन सभी कंपनियों की सब्सडियरीज पर भी प्रतिबंध लगाया जा रहा है. अमेरिका का कहना है कि ये दोनों चीनी कंपनियां और इनकी सहायक ईकाईयों से 'राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा' है. बता दें कि पहले ही Huawei और ZTE पर लगातार इस बात के आरोप लगते रहें है कि वो चीनी सरकार के साथ अमेरिकी नागरिकों को डेटा साझा करती हैं.

अमेरिका ने क्यों हैं लगाया इन दोनों कंपनियों पर बैन?
Huawei-ZTE पर अमेरिका बीते एक दशक से सवाल उठाता रहा है. इस मामले पर सबसे पहले औपचारिक कदम 2012 में उठाया गया था. तब अमेरिकी की हाउस इंटेलीजेंसी कमिटी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि Huawei और ZTE अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हैं और वहां बिजनेस को इन दोनों कंपनियों से टेलिकॉम उपकरण खरीदने से बचना चाहिए. इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि इनमें से किसी भी कंपनी ने अमेरिका द्वारा उठा गए सवालों का जवाब नहीं दिया था.

इसके बाद 2018 में, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि ZTE अमेरिका में अपना कारोबार जारी रख सकती है, लेकिन उसे 1.3 अरब डॉलर का जुर्माना देना होगा. साथ ही ZTE को उच्च कोटि की सुरक्षा की गारंटी सुनिश्चित करनी होगी. ट्रंप के पहले बाराक ओबामा प्रशासन ने भी ZTE पर 7 साल का प्रतिबंध लगाया था. ओबामा प्रशासन ने यह फैसला ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध का उल्लंघन करने के आरोप में लगाया था.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार