सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Farm Laws Repealed: कृषि कानूनों की वापसी के बाद अब CAA के लिए घेरी जाएगी दिल्ली? अरशद मदनी के बयान से उठे सवाल

जो लोग कृषि कानूनों के समर्थन में पीएम मोदी के साथ चट्टान की तरह खड़े थे, इस फैसले के बाद उन्होंने सवाल उठाए कि इसके बाद इसी तरह अराजक भीड़ सडक पर उतरकर कश्मीर में धारा 370 की बहाली तथा CAA कानून को वापस लेने की मांग भी करेगी, क्या तब भी मोदी सरकार उनकी मांग मानेगी?

Abhay Pratap
  • Nov 20 2021 12:38PM

कल 19 नवम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में वो घोषणा की, जिसकी उम्मीद कोई नहीं कर रहा था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने चौंकाने वाला फैसला लेते हुए तीनों कृषि कानूनों (Farm Laws Repealed) को वापस लेने की घोषणा कर दी. पीएम मोदी के इस एलान से न सिर्फ उनके समर्थक बल्कि किसान संगठन तथा इस आन्दोलन की आड़ में वोटबैंक की फसल काटने की योजना में लगे विपक्षी दल भी हैरान रह गए.

जो लोग कृषि कानूनों के समर्थन में पीएम मोदी के साथ चट्टान की तरह खड़े थे, इस फैसले के बाद उन्होंने सवाल उठाए कि इसके बाद इसी तरह अराजक भीड़ सडक पर उतरकर कश्मीर में धारा 370 की बहाली तथा CAA कानून को वापस लेने की मांग भी करेगी, क्या तब भी मोदी सरकार उनकी मांग मानेगी? ये सवाल उठना लाजिमी भी है और सुदर्शन न्यूज भी ये सवाल उठा रहा है.

ये सवाल उस समय और ज्वलंत होते प्रतीत हुए जब जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी (Maulana Arshad Madani) ने कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले पर टिप्पणी की. मौलाना मदनी ने किसानों को बधाई देते हुए कहा कि इसके लिए महान बलिदान दिया गया. किसानों को बांटने की साजिशें भी रची गईं, लेकिन देश के किसान अपने रुख पर अडिग रहे. इसके साथ ही मौलाना अरशद मदनी ने सरकार से कृषि कानूनों की तरह ही नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को भी वापस लेने की मांग की है.

मौलाना अरशद मदनी ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि एक बार फिर सच सामने आया है कि अगर किसी जायज मकसद के लिए ईमानदारी और धैर्य से आंदोलन चलाया जाए तो उसमें सफलता जरूर मिलती है. यह निर्विवाद तथ्य है कि किसानों ने सीएए के खिलाफ आंदोलन के माध्यम से इतना मजबूत आंदोलन पाया जब महिलाएं भी न्याय के लिए दिन रात सड़कों पर बैठी रहीं. आंदोलन में शामिल होने वालों पर घोर अत्याचार किया गया और कई झूठे आरोपों के तहत गिरफ्तार किए गए, लेकिन आंदोलन को तोड़ा या दबाया नहीं जा सका.

मौलाना मदनी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि देस की संरचना लोकतांत्रिक है, इसलिए यह अपनी जगह पर सही है. इसलिए अब प्रधानमंत्री को उन कानूनों पर ध्यान देना चाहिए जो मुसलमानों के संबंध में लाए गए हैं. कृषि कानूनों की तरह ही नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को भी वापस लेना चाहिए.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार