सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

तमिलनाडु: पुलिस हिरासत में हुई पिता-पुत्र की मौत; सोशल मीडिया पर जमकर मच रहा बवाल

अनुभवी भारतीय आफ स्पिनर रविचंद्र अश्विन और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने तमिलनाडु के तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में कथित रूप से हुई पिता जयराज और उनके बेटे फेनिक्स की मौत के मामले में मृतक के परिवार वालों के लिए न्याय की मांग की है।

Abhishek Lohia
  • Jun 27 2020 11:04PM

तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में एक पिता और बेटे की की मौत ने तमिलनाडु में भारी आक्रोश पैदा कर दिया है। पुलिस ने तूतीकोरिन में पी जयराज (59) और उनके बेटे जे बेनिक्स (Benicks)(फ़ेनिक्स- Fenix) (31) को निर्धारित समय के बाद भी मोबाइल की दुकान खोले रखने पर 19 जून को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद उनकी हिरासत में ही मृत्यु हो गई। आरोप है कि उन्हें हिरासत में यातना दी गई, जिससे उनकी मौत हो गई।

अनुभवी भारतीय आफ स्पिनर रविचंद्र अश्विन और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने तमिलनाडु के तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में कथित रूप से हुई पिता जयराज और उनके बेटे फेनिक्स की मौत के मामले में मृतक के परिवार वालों के लिए न्याय की मांग की है।

अश्विन ने ट्विटर पर कहा, " हर एक जिंदगी मायने रखता है। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि क्रूरता का यह कार्य न्याय के साथ किया जाता है और मुझे यकीन नहीं है कि न्याय जयराज एंड फेनिक्स के परिवार के लिए कोई भी हल होगा। मेरी संवेदनाएं उनके साथ हैं।"

मीडिया में जारी खबरों के मुताबिक, जयराज और उनके बेटे फेनिक्स को लॉकडाउन के दौरान अपने मोबाइल की दुकान को निर्धारित समय से अधिक समय तक खुला रखने के कारण पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था।

हिरासत में रहने के दौरान पुलिस ने उनके साथ क्रूरता की जिससे दो दिन बाद उनकी मौत हो गई।

विरोध स्वरूप तूतीकोरिन में दुकानें बंद रखी गईं. मामले में चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है. मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामि ने घटना पर दुख जताया है पर यातना दिए जाने की बात पर मुख्यमंत्री ने चुप्पी साधी.सीएम ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये और नौकरी देने की बात कही है. विपक्ष के नेता एमके स्टालिन ने विधानसभा में कहा कि इस बर्बरता के लिए जो लोग जिम्मेदार हैं उन्हें सख्त सजा दिए जाने की जरूरत है और इसमें उनकी पार्टी कानूनी सहायता देगी. सांसद कनिमोझी ने मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को लिखा है.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मामले पर दुख जताते हुए कहा कि दुख की बात है कि जब रक्षक ही शोषक बन जाता है. राहुल ने ट्वीट किया , "पुलिस द्वारा हिंसा एक जघन्य अपराध है. यह विडंबना है कि जब रक्षक ही शोषक बन जा रहे हैं. " 

गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने इस घटना की तुलना अमेरिका में अफ्रीकी-अमेरिकी व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या से की है. साथ ही उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, "प्रिय बॉलीवुड सेलेब्स, क्या आपने सुना तमिलनाडु में क्या हुआ है? क्या आप दूसरे देशों में होने वाली घटनाओं पर ही इंस्टाग्राम पर एक्टिव होंगे. भारत में कई ऐसे जॉर्ज फ़्लॉड्स हैं. जो पुलिस हिंसा और यौन शोषण का शिकार हो जाते हैं.

तमिल एक्टर जयम रवि ने ट्वीट किया, कोई भी व्यक्ति कानून से ऊपर नहीं है, इस अमानवीय घटना के लिए न्याय अवश्य होना चाहिए.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार