सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

रंग लाई योगी सरकार की रणनीति.. किसानों ने यूपी बॉर्डर खोला.. लोगो को बड़ी राहत...

केंद्र सरकार के कृषि कानून के विरोध में चल रहा यूपी के किसानों का आंदोलन खत्‍म.. यूपी बॉर्डर खुलने से लोगो को मिली बड़ी राहत..

रजत के.मिश्र , Twitter - rajatkmishra1
  • Dec 13 2020 1:31PM

केंद्र सरकार के कृषि कानून के विरोध में चल रहा यूपी के किसानों का आंदोलन खत्‍म हो गया है। यूपी के किसान नोएडा के सेक्टर-14ए चिल्ला बॉर्डर से हट गए हैं। नोएडा से दिल्ली के बीच आवागमन शुरू हो गया है। जनता की परेशानी को देखते हुए किसानों ने बॉर्डर से हटने का फैसला लिया है।

किसानों और सरकार के बीच कृषि आयोग के गठन को लेकर सहमति बनी है। यह सहमति योगी सरकार के लिए किसी उपलब्धि से कम नहीं है। जहां उत्तर भारत के कई राज्य किसान आंदोलन से परेशान हैं, वहीं योगी सरकार की कुशल रणनीति से प्रभावित हुए किसानों द्वारा उत्तर प्रदेश में आंदोलन खत्म करने की घोषणा करना सराहनीय कार्य माना जा रहा है।

आज यूनियन के पदाधिकारियों की मीटिंग होगी। सेक्टर-14ए पर भारतीय किसान यूनियन(भानू गुट) के शीर्ष पदाधिकारी अंतिम निर्णय लेंगे। इससे आगे का फैसला कार्यकारिणी मीटिंग में होगा। सेक्टर-14ए चिल्ली बॉर्डर पर दिल्ली सीमा में खड़ी आरएएफ, आरपीएफ भी हटाई गई है। दिल्ली के फेस-1 एसएचओ विवेक और एसीपी सचिन सिंघल भी मय फोर्स के साथ बॉर्डर से हटे। अब बॉर्डर पूरी तरह से खाली हो गया है। यह बॉर्डर 12 दिन बाद खुला है। यह बॉर्डर 12 दिन बाद खुला है।

देर रात दिल्ली जाकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे चिल्ला बॉर्डर के किसान। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी राजनाथ सिंह के साथ किसानों के साथ बातचीत में शामिल थे। दोनों पक्षों के बीच बातचीत के बाद यह बॉर्डर खोल दिया गया। इस बैठक में 18 सूत्रीय मांगे रखी गईं। इन मांगों में न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य या एमएसपी का जिक्र नहीं है। लेकिन इसके अलावा बाकी किसान संगठन अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार