सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

विज्ञापन है बहाना... हिंदुत्व है निशाना... ऐसे सेक्युलरिज्म को है, देश से भगाना

जिस तनिष्क के विज्ञापन में हिन्दू लड़की को मुस्लिम परिवार की बहू दर्शाया गया है, यदि उसी विज्ञापन में मुस्लिम लड़की को हिन्दू परिवार की बहू दर्शाया जाय, तो उससे बहुसंख्यकों को कोई आपत्ति न होगी...

रजत मिश्र, उत्तर प्रदेश , Twitter: rajatkmishra1
  • Oct 14 2020 4:37PM

आज हम एक ऐसे ही विज्ञापन की बात करेंगे जिसने देश को दो हिस्सों में बांट दिया है, यानी एक विज्ञापन ने धर्म के आधार पर देश का वैचारिक विभाजन कर दिया है। भारत के एक मशहूर जूलरी ब्रांड तनिष्क के विज्ञापन में एक हिंदू लड़की को मुस्लिम परिवार की बहू के तौर पर दिखाया गया और देश के बहुसंख्यक लोग इस बात से भड़क गए। इनका कहना है कि इस विज्ञापन की स्टोरी उलटी होनी चाहिए थी। यानी एक हिंदू परिवार में एक मुस्लिम बहू को दिखाया जाना चाहिए था।

इसी महीने की 7 तारीख को दिल्ली में एक 18 साल के हिंदू लड़के जिसका नाम राहुल राजपूत था, उसकी बेरहमी से सिर्फ इसलिए हत्या कर दी गई क्योंकि वो पड़ोस में ही रहने वाली एक मुसलमान लड़की से प्यार करता था। हत्या का आरोप लड़की के परिवार वालों पर लगा है। राहुल अपने माता पिता का इकलौता पुत्र था। राहुल की हत्या के आरोप में पुलिस लड़की के भाई मोहम्मद राज और उसके दोस्त मनवार हुसैन को गिरफ्तार कर चुकी है। यहां तक कि जिस लड़की के परिवार पर इस हत्या का आरोप है वो लड़की खुद इस हत्याकांड की जांच की मांग कर रही है। इस लड़की को अपने ही परिवार से जान का खतरा है इसलिए इसे उसके परिवार से दूर नारी निकेतन में रखा गया है।

फिलहाल कंपनी ने अपने विज्ञापन को विवादों में फसते देख और बहुसंख्यकों की नाराजगी न मोल लेने के लिहाज से वापस ले लिया है। अब इस विज्ञापन वापसी पर भी कुछ लोगों को सेक्युलरिज्म खतरे में दिख रहा है। इन लोगों का मानना है इस विज्ञापन की वापसी की जानी चाहिए। हमारा स्पष्ट मानना है कि अगर वास्तविकता में राहुल की हत्या की जाती है तो फिर एक हिन्दू लड़की को मुस्लिम परिवार की बहू कैसे दिखाया जा सकता है? जिन्हें सुक्युलरिज्म को बढ़ावा देना है उन्हें चाहिए कि इसी विज्ञापन में थोड़ा बदलाव कर मुस्लिम परिवार की बेटी को हिन्दू परिवार की बहू के रूप में दिखाए। ऐसे सेक्युलरजिम का हम सब तहे दिल से स्वागत करेंगे।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

3 Comments

We Hindus should completely boycott Bollywood and and all such companies who use these types of advertisement. Hindu unity is the only solution here

  • Guest
  • Oct 17 2020 8:26:21:863PM

Jai Shri ram

  • Guest
  • Oct 16 2020 5:35:58:937PM

The parasites at Tanishq knew exactly what they were doing, they were endorsing Rape jihad as if they didn't know how jihadi vermin have been using it as a war tactic for centuries. The muslim MIL bitch in most cases are the ones who tie down Hindu women and commit atrocities on them , Muzzrats are scum whether men or women, they are cohorts in being vulgar scum Fuck Tanishq , their story is finished , No one should buy from them. Advertising should be scrutinized , Hindus are tired of endless jihadi appeasement, people should not let these brands get away with such brazen vulgarity. Tanishq and other Hindu-phobic ads should be sued for all their worth , if they had to pay eben 1 paisa to every Hindu for their grossness, they would run out of money and might even start anti-jihadi ads.

  • Guest
  • Oct 16 2020 4:08:21:777PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार