सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को अब मिलेगी हाई-टेक सुविधा.... 39.73 करोड़ रुपए की परियोजना बनाई गई

वृंदावन के पास गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा मार्ग के सौंदर्यीकरण और श्रद्धालुओं के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार लगभग 40 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। पांच चरणों की यह परियोजना मार्च 2022 तक पूरी होने की संभावना है।

Prem Kashyap Mishra
  • Oct 14 2021 8:45PM

कान्हा की नगरी मथुरा में स्थित गोवर्धन पर्वत एक समय में दुनिया का सबसे बड़ा पर्वत था। कहा जाता है कि यह इतना बड़ा था कि सूर्य को भी ढ़क लेता था। इस पर्वत को भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापर युग में अपनी उंगली पर उठाकर इंद्र के प्रकोप से ब्रज को लोगों की मदद की थी। गोवर्धन पर्वत को गिरिराज पर्वत भी कहा जाता है। गोवर्धन पर्वत को भक्तजन गिरिराज जी भी कहते हैं। सदियों से यहां दूर-दूर से भक्तजन गिरिराज जी की परिक्रमा करने आते रहे हैं। यह ७ कोस की परिक्रमा लगभग २१ किलोमीटर की है। मार्ग में पड़ने वाले प्रमुख स्थल आन्यौर, गोविन्द कुंड, पूंछरी का लौठा,जतिपुरा राधाकुंड, कुसुम सरोवर, मानसी गंगा, दानघाटी इत्यादि हैं यह तो गोवर्धन पर्वत के बारे में बताया लेकिन हम आपको बताने जा रहे है कि अब गोवर्धन पर्वत का परिक्रमा लगाने जाने वाले श्रधालुओं को हाई टेक सुविधा मुहैया कराएगी केंद्र सरकार।

वृंदावन के पास गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा मार्ग के सौंदर्यीकरण और श्रद्धालुओं के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार लगभग 40 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। पांच चरणों की यह परियोजना मार्च 2022 तक पूरी होने की संभावना है। गोवर्धन पर्वत के चारों ओर 7 किलोमीटर और 21 किलोमीटर की दो परिक्रमाएं आयोजित होती हैं जहां सिर्फ कृष्ण जन्माष्टमी पर 5 लाख से अधिक श्रद्धालु जमा होते हैं जबकि साल भर में 50 लाख से अधिक लोग यहां पहुंचते हैं। 

 लेकिन अभी तक उनके लिए इतने लंबे परिक्रमा मार्ग पर पीने का पानी तक उपलब्ध नहीं था। यही नहीं रास्ते में पड़ने वाले चंद्र सरोवर, कुसुम सरोवर और मानसी गंगा जैसे स्थल बदहाली की स्थिति में थे।  केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए 39.73 करोड़ रुपए की परियोजना बनाई है। इसमें गोवर्धन बस स्टेशन, मल्टी लेवल कार पार्किंग, लिफ्ट और क्लॉक रूम का निर्माण शामिल है।   

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार