सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

कट्टरपंथी को डर राष्ट्रवाद से... फिर से फुफकारा हामिद

राष्ट्रवाद पर हामिद अंसारी ने फिर साधा निशाना... शशि थरूर के पुस्तक समारोह में लगा था देश विरोधी नेताओ का जमावड़ा

Sudarshan News
  • Nov 21 2020 4:23PM
जो व्यक्ति देश का उपराष्ट्रपति रहा हो और उसका देश के प्रति अनर्गल बयानबाजी देना  ।उसकी देश विरोधी मानशिकता को दसर्राता  है ये कोई पहला मामला नही जब हामिद अंसारी ने देश के राष्ट्रवाद और वयवस्था पर निशाना साधा।इससे पहले भी कई बार वे देश के खिलाफ बयान दे विवादों में आ चुके हैं।अंसारी ने कहा कि कोरोना के आने से पहले देश 'धार्मिक कट्टरता' और 'आक्रामक राष्ट्रवाद' जैसी महामारी का शिकार हो चुका है.

 उन्होंने कहा कि इन दोनों के मुकाबले देशप्रेम अधिक सकारात्मक अवधारणा है। क्योंकि यह सैन्य और सांस्कृतिक रूप से रक्षात्मक है। आपको बताते चलें कि की हामिद अंसारी10 साल तक यूपीए सरकार में दस साल तक उपराष्ट्रपति रहे हैं जिसके बावजूद उन्होंने कहा है कि देश में प्रकट और अप्रकट विचारों एवं विचारधारोंओ  से खतरा दिखने लगा है। जो उसको हम और वो श्रेणी बाट रहा है।इसके बाद उन्होंने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा कहा कि चार वर्षों की अल्पअवधि में देश ने उदार राष्ट्रवाद तक राजीनीतिक परिकल्पना का सफर तय कर लिया है। जिसके विचार से लोगो के दिमाग मजबूती से घिर गये है 


यही नहीं एक डिजिटल समारोह में देश विरोध के लोग का जमावड़ा लगा था जिसमे फारुख अब्दुल्ला भी मौजूद थे।उन्होंने इस समारोह में जमकर देश के विरोध  में जमकर तीर छोड़े।उन्होंने कहा है कि हमारे पास मौका था कि हम1947 में पाक के पास जाने का लेकिन हमारे पिता और अन्य लोगों ने यही सोचा था कि दो राष्ट्र का सिद्दांत ठीक नहीं है।इसीलिए हम पाकिस्तान के साथ नही गये ।वे यह नही रुके उन्होंने यहाँ तक कह की हम मौजूद भारत सरकार को स्वीकार नही करते।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें