सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

किसान आंदोलन: 22 जुलाई से हर दिन 200 प्रदर्शनकारी आएंगे जंतर-मंतर

सिंघू बॉर्डर पर विरोध का नेतृत्व कर रहे किसान संगठनों ने फैसला किया है कि गुरुवार से 200 प्रदर्शनकारी हर दिन जंतर-मंतर जाएंगे।

Sudarshan News
  • Jul 21 2021 11:27PM

सरकार को विभिन्न मुद्दों पर संसद के अंदर विपक्ष के हंगामे का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेस और अन्य दलों ने कहा है कि जब तक सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती, तब तक वे मानसून सत्र को सामान्य रूप से आगे नहीं बढ़ने देंगे। अब, सरकार के लिए संसद के बाहर भी एक नई समस्या खड़ी होने वाली है।

पिछले साल सितंबर में बनाए गए तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर आठ महीने से अधिक समय से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बॉर्डरों के पास प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा है कि वे 22 जुलाई से जंतर-मंतर पर 'किसान संसद' आयोजित करेंगे।

सिंघू बॉर्डर पर विरोध का नेतृत्व कर रहे किसान संगठनों ने फैसला किया है कि गुरुवार से 200 प्रदर्शनकारी हर दिन जंतर-मंतर जाएंगे।

किसान नेताओं ने कहा, "हम 22 जुलाई से मानसून सत्र समाप्त होने तक 'किसान संसद' आयोजित करेंगे और 200 प्रदर्शनकारी हर दिन जंतर-मंतर जाएंगे। हर दिन एक स्पीकर और एक डिप्टी स्पीकर चुना जाएगा। पहले दो दिनों में एपीएमसी एक्ट पर चर्चा होगी। बाद में, अन्य विधेयकों पर भी हर दो दिनों में चर्चा की जाएगी।''

प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक की, जिसके बाद एक किसान नेता ने कहा कि वे जंतर-मंतर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करेंगे और कोई भी प्रदर्शनकारी संसद नहीं जाएगा। जंतर मंतर पर सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक धरना जारी रहेगा।

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार