सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी बोले,खेती में नवाचारों के लिए वैज्ञानिकों और किसानों के बीच पुल का काम करते हैं कृषि विज्ञान केंद्र

कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने किया कृषि विज्ञान केंद्रों की क्षेत्रीय कार्यशाला को सम्बोधित

Namit Tyagi, twitter, @NamitTyagi1
  • Jul 17 2020 7:00PM
केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने आज भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, जोधपुर द्वारा आयोजित राजस्थान, हरियाणा व दिल्ली राज्य के कृषि विज्ञान केंद्रों की वार्षिक समीक्षा क्षेत्रीय कार्यशाला के उद्घाटन समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भाग लिया। कार्यशाला में केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने कृषि विज्ञान केंद्रों को अधिक संख्या में किसानों तक पहुँच बनाने और उन्हें तकनीकी सहायता उपलब्ध कराकर वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के केंद्र सरकार के लक्ष्य को हासिल करने में मदद करने की बात कही। उन्होंने कृषि विज्ञान केंद्रों से उन युवाओं को सशक्त बनाने में मदद करने को कहा जो खेती और उससे संबद्ध गतिविधियों से जुड़े नहीं हैं।

कृषि विज्ञान केंद्रों से जुड़े कृषि वैज्ञानिकों को सम्बोधित करते हुए कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि देश भर में फैले कृषि विज्ञान केंद्रों और संस्थान जानकारियां और नवीनतम तकनीक प्रदान करने में कृषि वैज्ञानिकों और किसानों के बीच एक पुल का काम करते हैं।

केंद्रीय मंत्री चौधरी ने कहा, ‘‘किसानों को कृषि विज्ञान केंद्रों का लाभ उठाना चाहिए क्योंकि देश की जीडीपी में कृषि के योगदान को बढ़ाने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर कृषि विज्ञान केंद्र किसानों को दिशा प्रदान करते हैं, उन्हें नई कृषि तकनीकों और सरकार की नीतियों का लाभ उठाने में किसानों की मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक रोड मैप बनाने की आवश्यकता है। श्री कैलाश चौधरी के के अनुसार, अगर हर किसान कृषि विज्ञान केंद्र और सरकारी कार्यक्रमों का पूरा लाभ उठाता है तो वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के सरकार के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। कृषि राज्यमंत्री ने फसल बीमा और इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट जैसी विभिन्न केंद्रीय योजनाओं को गिनाया और 10,000 किसान उत्पादक संगठनों को स्थापित करने की योजना के बारे में अवगत कराया।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार