सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

गौतस्करों को बचाने उपद्रवियों ने हथियार से लैस होकर किया पुलिस टीम पर हमला, तस्कर भागने में हुए सफ़ल, गौतस्करों का गढ़ बन गया छत्तीसगढ़ का यह क्षेत्र

नजीमुद्दीन, आबिद, शमशाद, दिलशाद, आरिफ़, साज़िद, अंसार, इकबाल हैं आरोपी, पर अभी तक पुलिस के हाथ खाली, देसी कट्टा भी बरामद हुआ

Yogesh Mishra
  • Jun 11 2021 8:09PM


 


छत्तीसगढ़ के रामानुजनगर पुलिस ने बूचड़खाना ले जाये जा रहे 23 मवेशियों से भरे ट्रक को जब्त किया है। वहीं 9 तस्कर व अन्य आरोपी पुलिस टीम को देखकर फरार हो गए, हालांकि पुलिस का तर्क है कि पुलिस को देखकर तस्कर भाग गये, पर स्थानीय समाचार सूत्रों की मानें, तो तस्करों को बचाने लगभग 80 से 100 स्थानीय उपद्रवी तत्वों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया, जिसके बाद तस्कर भागने में सफल रहे। वहीं कार्रवाई के दौरान पुलिस ने जब ट्रक की तलाशी ली, तो सीट के नीचे एक देशी कट्टा भी मिला है। पुलिस द्वारा फरार आरोपियों की खोजबीन जारी है, पर 48 घण्टे से ज्यादा समय हो जाने के बाद भी पुलिस तस्करों को पकड़ नहीं पाई है।


दरअसल सूरजपुर जिले के रामानुजनगर पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली ग्राम सूरता बाजारपारा के पास मवेशी तस्कर अजीमुद्दीन पिता आबिद, नजीमुद्दीन पिता आबिद, शमशाद उर्फ नान्हू पिता साजिद, दिलसाद पिता साजिद, आरिफ पिता साजिद, साजिद पिता सरबत अली, अंसार पिता आबिद खान समेत 9 लोग ट्रक क्रमांक सीजी 15 डीएम 1345 में मवेशियों को लोड कर बूचड़खाने ले जाने की तैयारी कर रहे हैं। जिसके बाद पुलिस की टीम तस्करों को पकड़ने ग्राम सूरता बाजारपारा पहुँची।

पुलिस वाहन को देखकर कर उक्त ट्रक क्रमांक का चालक डवरा बलरामपुर निवासी सलामुद्दीन अंसारी पिता ईदु अंसारी, ग्राम सूरता निवासी अजीमुद्दीन पिता आबिद, नजीमुद्दीन पिता आबिद, शमशाद उर्फ नान्हू पिता साजिद, दिलशाद पिता साजिद, आरिफ पिता साजिद, साजिद पिता सरबत अली, अंसार पिता आबिद खान, वाहन स्वामी मोमिनपुरा अंबिकापुर निवासी इकबाल कुरैशी व अन्य आरोपी मौके पर ट्रक छोड़कर फरार हो गए। इसके बाद पुलिस टीम ने 23 नग मवेशी लोड ट्रक को जब्त कर लिया। पर पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं।



ट्रक की तलाशी में मिला देशी कट्टा
पुलिस को ट्रक की तलाशी में ड्राइवर सीट के नीचे एक  देशी कट्टा भी मिला है। जिसे जब्त कर लिया गया। मामले में आरोपियों के खिलाफ छत्तीसगढ़ कृषक पशु परीरक्षण की अधिनियम 2004 की धारा 6 एवं 10, पशु कू्ररता निवारण अधिनियम व आम्र्स एक्ट के तहत अपराध दर्ज कर उनकी खोजबीन शुरू कर दी गई है। 48 घण्टे के बाद भी फिलहाल पुलिस हवा में हाथ पाँव मार रही है और पुलिस का दावा है कि जल्द तस्करों को पकड़ लिया जायेगा।



TI और टीम पर किया था हमला, तो TI का ही हुआ ट्रांसफर

लगभग 1 वर्ष पहले भी जशपुर जिले के एक थाने की टीम द्वारा गौ तस्करों पर कार्रवाई की गई थी। इस दौरान जब पुलिस की टीम गौ तस्करों को पकड़ने गई थी, तब भी इसी तरह से स्थानीय उपद्रवियों के द्वारा तस्करों को बचाते हुए पुलिस की टीम पर हमला कर दिया गया था। इस मामले में खुद थाना प्रभारी ने मामले की जानकारी मीडिया को दी थी, लेकिन इस पूरे मामले में तस्करों और तस्करों का साथ देने वालों पर कार्रवाई करना छोड़ कर कर उल्टे थाना प्रभारी का स्थानांतरण ही अन्य जिले में कर दिया गया। जो यह बताता है कि छत्तीसगढ़ में गौ तस्करों के सामने प्रशासन का पूरा तंत्र किस कदर घुटने टेका हुआ है।



गौतस्करों का गढ़ बन गया है सूरता
स्थानीय हिंदू संगठनों का आरोप है कि सूरजपुर के सूरता और इस क्षेत्र में लव जिहाद, लैंड जिहाद जारी है। साथ ही इस क्षेत्र में गौ तस्करों के हौसले शुरू से बुलंद हैं। इस क्षेत्र में गौ तस्कर अपने समुदाय के साथ इकट्ठा होकर खुलेआम गौ तस्करी घटना को अंजाम देते हैं, फिर भी पुलिस मूकदर्शक बने देखती रहती है। ऐसे में हिंदू संगठन से जुड़े मनोज पांडेय व अन्य कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि हिंदू समाज को सक्रिय करने वाले लोगों को भी निशाना बनाने की योजना कई उपद्रवी बनाते मिले हैं। साथ ही कई बार हिंदू संगठन कार्यकर्ताओं पर हमला तक किया जा चुका है, इसकी थाने में शिकायत भी दर्ज़ है। हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता बताते हैं कि अजीमुद्दीन यहाँ का सरगना है। जिस तरह पुलिस की टीम पर हमला करके गौ तस्करों को छुड़ाकर मुस्लिम समुदाय के लोग बड़ी आसानी से पुलिस को डरा रहे हैं, उससे क्षेत्र में बिगड़ते हालात का अंदाजा लगाया जा सकता है।





'हिंदुओं को डराकर रखा जाता है'
ग्राम पंचायत परशुरामपुर, सूरता के पूर्व सरपंच रामनाथ बताते हैं कि इस क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय के द्वारा लगातार लव जिहाद और लैंड जिहाद जैसी घटनाओं को अंजाम दिया जाता रहा है। इसके साथ ही पूर्व सरपंच रामनाथ बताते हैं कि मुसलमानों के द्वारा क्षेत्र में गौ तस्करी धड़ल्ले से जारी है। ऐसे में ग्रामीण आशंकित है कि जिस तरह से मुस्लिम समुदाय के लोग हिंदुओं पर अत्याचार करते हैं, इससे हिंदू सहमा हुआ है और उन्हें अपने भविष्य का खतरा भी नजर आने लगा है। साथ ही सामने आने वाले लोगों पर हमला भी होता रहा है। कुछ वर्ष पहले विहिप के राजलाल राजवाड़े पर भी उपद्रवियों ने हमला किया गया था।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार