सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

आंध्र प्रदेश के बाद अब एमपी के अधिकारी भी पहुँच रहे है काशी.. क्या है योगी का काशी मॉडल जिसकी हो रही है चर्चा..

काशी मॉडल को देखने आ रहे है उज्जैन के अधिकारी, पीएम के संसदीय क्षेत्र की बदलती तस्वीर बनी हुई है चर्चा का विषय.. योगी के कार्यकाल में काशी में हुए है अभूतपूर्व बदलाव..

रजत के.मिश्र , Twitter - rajatkmishra1
  • Jan 22 2021 2:29PM

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विकास मॉडल की चर्चा अब  पूरे देश में होने लगी है। प्रदेश के विकास मॉडल को देखने के लिए अभी हाल में आंध्र प्रदेश के प्रमुख सचिव ने दौरा किया था और अब उज्‍जैन के मुख्‍य कार्यकारी अधि‍कारी क्षितिज सिंघल यूपी का विकास मॉडल देखने के लिए आ रहे हैं। 

उत्‍तर प्रदेश में पिछले साढ़े तीन सालों में विकास को जो बयार बही है वह देश के दूसरे राज्‍यों के नजीर साबित हुई है। नवम्‍बर 2020 में आंध्र प्रदेश के प्रमुख सचिव ने काशी का कचरा प्रबंधन देखने के लिए आए थे। इस बार मध्य प्रदेश के उज्जैन से  मुख्य कार्यकारी अधिकारी, स्मार्ट सिटी व नगर आयुक्त उज्जैन क्षितिज सिंघल काशी आ रहे है। पीएम का संसदीय क्षेत्र वाराणसी स्मार्ट सिटी का मॉडल देश के दूसरे राज्‍यों के लिए नजीर साबि‍त हो रहा है। मध्य प्रदेश के अधिकारी काशी की दशश्वमेध वार्ड की संकरी गलियों में हुए विकास कार्यों को देखेंगे, इसके अलावा भारत और जापान के दोस्ती की मिसाल  रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर को भी वह  देखेंगे, जो 186 करोड़ की लगत से तैयार हो रहा है। फ्लाइओवर, लाइट मेट्रो, रोप-वे, गंगा में फेरी सर्विस, डेडिकेटेड पाथवे और ई-रिक्‍शा कॉरिडोर की फिजिबिलटी रिपोर्ट के आधार पर तैयार प्‍लान पर भी काशी मे काम चल रहा है।

वरुणा कॉरिडोर बनेगा वैकल्पिक मार्ग -

जाम की समस्‍या से निबटने के लिए 10 किलोमीटर लंबे वरुणा कॉरिडोर को वैकिल्‍पक मार्ग के रूप में विकसित करने के साथ ई-रिक्‍शा कॉरिडोर बनाने की सर्वे रिपोर्ट भी पीएमओ को भेजी गई है। वरुणा कॉरिडोर में गंगा तट तक जाने के लिए छोटी नावें और स्‍टीमर चलाने की भी प्‍लानिंग है। इससे वरुणा किनारे बसे ज्‍यादातर होटलों में ठहरने वाले सैलानी वैकल्पिक मार्ग से गंगा तट तक पहुंच सकेंगे। जगह- जगह ई-रिक्‍शा स्‍टैंड, फूड कोर्ट, आईसक्रीम पार्लर, टॉइलट आदि बनाए जाएंगे।

स्‍पेशल जोन में कालभैरव परिक्षेत्र-

विश्‍वनाथ धाम की तर्ज पर काशी कोतवाल बाबा कालभैरव परिक्षेत्र बनाने की भी योजना है। पक्‍का महाल यानी पुरानी काशी के टाउनहॉल और आसपास के क्षेत्रों की गलियों से ही कालभैरव मंदिर जाने का रास्‍ता है। प्रस्‍तावित प्‍लान में स्‍पेशल जोन बनने से कालभैरव मंदिर का इलाका खुला-खुला दिखने लगेगा। टाउनहॉल किनारे बसे मालवीय मार्केट को दिल्‍ली के कनॉट प्लेस की तरह विकसित किया जाएगा तो कुछ दूर पर ही स्थित पूर्वांचल की सबसे बड़ी विशेश्‍वरगंज गल्‍ला मंडी की तस्‍वीर भी बदलेगी।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार