सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Mann Ki Baat : मन की बात पर पीएम मोदी ने सशस्त्र बलों को श्रद्धांजलि दी, कहा - 'इन नायकों की बहादुर मां'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अगले महीने 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत की 50 वीं वर्षगांठ समारोह से पहले देश के सशस्त्र बलों की प्रशंसा की।

Abhinya
  • Nov 28 2021 3:41PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अगले महीने 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत की 50 वीं वर्षगांठ समारोह से पहले देश के सशस्त्र बलों की प्रशंसा की। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मन की बात रेडियो के 83वें एपिसोड को संबोधित करते हुए कहा, "देश दिसंबर में नौसेना दिवस और सशस्त्र सेना झंडा दिवस मनाता है। हम सभी जानते हैं कि 16 दिसंबर को देश 1971 के युद्ध का स्वर्ण जयंती वर्ष मना रहा है।"

इसके आगे उन्होंने कहा, "इस अवसर पर, मैं अपने सशस्त्र बलों, हमारे सैनिकों को याद करना चाहता हूं। विशेष रूप से उन बहादुर माताओं को जिन्होंने इन नायकों को जन्म दिया।"

प्रधानमंत्री ने 6 दिसंबर को बीआर अंबेडकर की जयंती का भी उल्लेख किया और कहा कि हम सभी को भारतीय संविधान के मुख्य वास्तुकार को श्रद्धांजलि के रूप में अपने कर्तव्यों को पूरा करना चाहिए।

“बाबासाहेब अम्बेडकर ने देश और समाज के लिए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि हमारे संविधान की मूल भावना हम सभी से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने की अपेक्षा करती है।" "तो आइए संकल्प लें कि अमृत महोत्सव में हम अपने कर्तव्यों को पूरी निष्ठा से निभाने का प्रयास करेंगे, यह बाबा साहब को श्रद्धांजलि होगी।"

प्रधानमंत्री ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में झांसी और बुंदेलखंड जैसे स्थानों के महत्व पर भी प्रकाश डाला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "रानी लक्ष्मीबाई और झलकारी बाई जैसे नायक यहीं से हैं। इन क्षेत्रों ने हमें मेजर ध्यानचंद की तरह खेल रत्न भी दिया है।" मन की बात प्रधानमंत्री का मासिक रेडियो संबोधन है जो हर महीने के आखिरी रविवार को प्रसारित होता है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार