सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

आज़ादी के बाद पहली बार होगी किसी महिला को फांसी

आज़ादी के बाद से अब तक भारत में किसी महिला को फांसी नहीं दी गई है परंतु अब यूपी के एकमात्र फांसी घर मथुरा जेल में एक महिला को फांसी पर लटकाए जाने की हो रही है तैयारियां.. जानिए क्यों?

रजत के. मिश्र Twitter- rajatkmishra1
  • Feb 17 2021 2:31PM

देश की आजादी के बाद भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार होने जा रहा है, जब किसी महिला कैदी को फांसी पर लटकाया जाएगा। मथुरा जेल में महिला को फांसी देने की तैयारियां चल रही हैं। फांसी की तारीख तय होना बाकी है। मथुरा जेल में बंद अमरोहा की रहने वाली शबनम की दया याचिका राष्ट्रपति ने खारिज कर दी है, जिसके बाद मथुरा स्थित यूपी के इकलौते महिला फांसीघर में शबनम को मौत की सजा दी जाएगी। यह व्यवस्था ब्रिटिशकालीन है। निर्भया के आरोपियों को फांसी पर लटकाने वाले मेरठ के पवन जल्लाद भी दो बार फांसीघर का निरीक्षण कर चुके हैं।

जानिए क्या है पूरा मामला?
 
बता दें कि अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अप्रैल 2008 में प्रेमी के साथ मिलकर अपने 7 परिजनों की कुल्हाड़ी से काटकर बेरहमी से हत्या कर दी थी। अमरोहा ज़िले का बावनखेड़ी गांव 15 अप्रैल 2008 को गांव की एक लड़की की चीख पुकार सुनकर लोग इक्ट्ठा हुए। गांव के लोग जब घर पहुंचते हैं तो परिवार के 7 लोगों का खून से लथपथ शव जमीन पर पड़े मिलते हैं। ऐसे में 25 साल की शबनम चीख-चीखकर लोगों को बताती है कि लुटेरों ने लूट के लिए उसके परिवार को मारकर चले गए। मौके पर पहुंची पुलिस के शबनम की बातें हजम नहीं हुई तो उन्होंने इस मामले में गहराई से जांच की। बस फिर क्या था पूरी कहानी पुलिस के सामने आई।

प्रेम संबंध के लिए दिया जुर्म को अंजाम 

पुलिस के अनुसार 25 साल के शबनम ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर पूरी घटना को अंजाम दिया। दरअसल, पोस्टग्रेजुएट और पेशे से शिक्षक शबनम को पांचवीं पास सलीम से प्यार हो गया था। परिवार वालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं था। इसी बीच शबनम गर्भवती हो गई। फिर दोनों ने मिलकर परिवार को खत्म करने की योजना बनाई। 15 अप्रैल, 2008 की रात शबनम ने खाने में कुछ मिलाया और जब सब बेहोशी की नींद सो गए तो उसने एक-एक कर कुल्हाड़ी से सबको मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने जांच के क्रम में जब शबनम की कॉल डिटेल निकाली तो उसके सलीम से बात होने की पुष्टि हो गई। शबनम से जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने सब उगल दिया।

बिन बियाही मां बनी थी महिला 

मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस ने शबनम के साथ प्रेमी सलीम को भी गिरफ्तार कर लिया गया और हत्या में उपयोग किया गया कुल्हाड़ी भी बरामद की  कोर्ट ने जघन्य हत्याकांड के लिये शबनम और सलीम दोनों को फांसी की सजा सुनाई है। जेल जाने के करीब 7 माह बाद शबनम के एक बेटे को जन्म दिया। कई साल तक ये बच्चा शबनम के साथ रहा। 2015 में फांसी की सजा सुनाए जाने के शबनम ने इस बच्चे को अपने दोस्त और उसकी पत्नी को सौंप दिया था। शबनम और सलीम का बेटा अभी 11 साल का है।

राष्ट्रपति ने भी की दया याचिका खारिज 

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शबनम की फांसी की सजा बरकरार रखी थी। राष्ट्रपति ने भी उसकी दया याचिका खारिज कर दी है। लिहाजा आजादी के बाद शबनम पहली महिला कैदी होगी जिसे फांसी पर लटकाया जाएगा।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

1 Comments

Fasi do

  • Guest
  • Feb 19 2021 11:19:48:883PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार