सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Breaking: विकास दुबे के पीछे लगी 40 थानों की पुलिस

दरअसल घटना से दो दिन पहले विकास दुबे ने चौबेपुर के निलंबित थानाध्यक्ष विनय तिवारी के साथ मारपीट की थी.

Abhishek Lohia
  • Jul 6 2020 12:17AM
हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने यूपी पुलिस के दामन पर जो दाग लगाया है उसे मिटाने के लिए उत्तर प्रदेश की पूरी पुलिस लगी है लेकिन विकास दुबे कहां है इसका जवाब उत्तर प्रदेश की पुलिस के पास नहीं है. विकास दुबे को पकड़ने के लिए 40 थानों की पुलिस जुटी है, 500 से ज्यादा फोन सर्विलांस पर हैं और 75 जिलों में सर्विलांस टीम के साथ पुलिस अलर्ट पर हैं. इतना ही नहीं विकास दुबे पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है. इतनी तैयारी किसी अंडरवर्ल्ड डॉन के लिए नहीं बल्कि यूपी पुलिस के आठ जांबाजों की जान लेने वाले अपराधी विकास दुबे के लिए है. इसके बावजूद विकास दुबे को आकाश निगल गया या जमीन खा गई इसका पता पुलिस को नहीं चल पा रहा है. 

कहते हैं पुलिस चाहे तो जंगल से भी सुई को ढूंढ निकालती है लेकिन ऐसा क्या हो गया कि कानपुर में यूपी पुलिस के 8 जाबांजों के खून की होली खेलने वाला अभी तक फरार है. सुदर्शन न्यूज़ लगातार विकास दुबे की गिरफ्तारी को लेकर सवाल उठाता रहा है लेकिन अब हम जो खुलासा करने जा रहे है उसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे.

दरअसल घटना से दो दिन पहले विकास दुबे ने चौबेपुर के निलंबित थानाध्यक्ष विनय तिवारी के साथ मारपीट की थी. विकास दुबे ने एसओ विनय तिवारी का मोबाइल भी छीन लिया था. पिटने का बाद भी एसओ विनय तिवारी चुप रहे और इस पिटाई की जानकारी अपने सीनियर अधिकारियों को भी नहीं दी.

विनय तिवारी किस कदर विकास दुबे के खौफ में थे इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जिस वक्त कानपुर के विकरू गांव में डिप्टी एसपी देवेंद्र मिश्रा की अगुवाई में 3 थानों के 20 से 25 पुलिसकर्मी हिस्ट्रीशीटर विनय दुबे को पकड़ने गए थे उस वक्त वो पीछे-पीछे चल रहे थे. जैसे ही क्षेत्राधिकारी घिर गए तो थानाध्यक्ष तिवारी मौके से भाग गए.

पुलिस का मानना है कि इस दबिश के दौरान चौबेपुर के थानाध्यक्ष ने लापरवाही की और पुलिस का खुफिया तंत्र पूरी तरह से फेल रहा है.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार