सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

बीजेपी कांग्रेस के बीच बयानबाजी, मुख्यमंत्री ने कहा- बुढ़ापे में बड़ा हुआ हरीश रावत का दिल

उत्तराखंड की राजनीति में पूर्व मुख्यमंत्री के बयान के बाद सियासत गर्मा गई है। इसे लेकर मुख्यमंत्री ने भी पलटवार किया है जिसके जवाब में हरीश रावत ने भी शायराना अंदाज दिखाया है। पढ़ें पूरी खबर...

Krishna Kumar
  • Jul 25 2020 10:01PM

प्रदेश की राजनीति में बयानबाजी का दौर जारी है। जहां एक तरफ पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने कांग्रेस में बागियों की वापसी को लेकर बयान दिया तो वही, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जमकर पलटवार किया। इन सरगर्मियों के बीच नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने भी अपने बयानों से खूब निशाना साधा।

हरीश रावत ने दिया था बागियों पर बयान
दरअसल, इस पूरे राजनीतिक घटनाक्रम की शुरुआत हुई थी पूर्व मुख्यमंत्री के उस बयान से जिसमें उन्होंने कहा था कि वर्ष 2016 में कांग्रेस से बगावत करने वाले यदि माफी मांगेंगे तो उनकी पार्टी में वापसी हो सकती है। उनके इस बयान से यह साफ पता चल रहा था कि हरीश रावत के तेवर अब नर्म हो रहे हैं। राजनीति के जानकारों का कहना है कि यह 2022 विधानसभ चुनाव के पहले कांग्रेस का बदला रुख है।

मुख्यमंत्री ने ली चुटकी
पूर्व मुख्यमंत्री के बयान ने राजनितिक गलियारों में हलचल मचा दी। हरीश रावत ने जिस तरह से बागियों की वापसी की बात की उसे देखते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि अच्छी बात है कि बुढ़ापे में हरीश रावत का दिल बड़ा हो गया है। 

हरीश रावत का शायराना अंदाज

 पूर्व मुख्यमंत्री को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की चुटकी चुभती सी दिखाई दी और शायराना अंदाज में उन्होंने इसका जवाब भी दिया। हरीश रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री जी की प्रतिक्रिया विश्लेषण के लायक है, यह कहावत चरितार्थ हो रही है कि खाया चौबे जी ने और बदहजमी हो गई दुबे जी को, देखते रहिए, आगे क्या क्या होता है।

पार्टी मे मची अंदरूनी हलचल
पूर्व मुख्यमंत्री की इस टिप्पणी के बाद कांग्रेस के अंदर ही हलचल मच गई है। कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के बयानों से यह साफ पता चलता है कि उन्हें हरीश रावत की यह टिप्पणी नागवार गुजरी है। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश जो लोग कांग्रेस छोड़कर चले गए थे, उनकी वापसी पर फैसला हाईकमान करेगा। इस बारे में अभी पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की टिप्पणी ठीक नहीं है। वहीं, उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने भी कहा है कि हाईकमान के सिवा किसी को भी इस बारे में निर्णय देने का अधिकार नहीं है। प्रभारी कांग्रेस उत्तराखंड प्रदेश अनुग्रह नारायण सिंह को भी हरीश रावत का यह बयान सही नहीं लगा और उन्होंने कहा कि इसका फैसला हाईकमान ही लेगा।

 

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार