सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

अड़ गये मुस्लिम सैलून वाले, नहीं काटेंगे दलितों के बाल ... चुप्पी साध गए जय भीम जय मीम का नारा लगाने वाले

लेकिन जय भीम जय मीम तथा दलित मुस्लिम एकता की हकीकत क्या है इसकी बानगी उत्तर प्रदेश के रामपुर में देखने को मिली है जहाँ मुस्लिम सैलून वालों ने हिंदू वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल काटने से ये कहते हुए मना कर दिया कि वह अछूत हैं. इस घटना के बाद दलित मुस्लिम एकता का राजनैतिक नारा बुलंद करनेवाले सभी नेताओं ने चुप्पी साध ली है.

Abhay Pratap
  • Oct 16 2021 6:26PM

पिछले कुछ वर्षों से देश में दलित-मुस्लिम की नई सियासत गढ़ने की कोशिश की जा रही है. तथाकथित बुद्धिजीवियों तथा वोट के सौदागरों द्वारा "जय भीम जय मीम" का नारा बुलंद किया जा रहा है. कहने को तो ये नारा राजनैतिक है लेकिन इसका मुख्य लक्ष्य हिन्दू समुदाय में विघटन पैदा करना है. दलित समाज की स्वघोषित ठेकेदार बीएसपी प्रमुख मायावती तथा मुस्लिमों के रहनुमा बनने का दावा करने वाले ओवैसी भी दलित मुस्लिम एकता की बातें करते नहीं थकते हैं.

लेकिन जय भीम जय मीम तथा दलित मुस्लिम एकता की हकीकत क्या है इसकी बानगी उत्तर प्रदेश के रामपुर में देखने को मिली है जहाँ मुस्लिम सैलून वालों ने हिंदू वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल काटने से ये कहते हुए मना कर दिया कि वह अछूत हैं. इस घटना के बाद दलित मुस्लिम एकता का राजनैतिक नारा बुलंद करनेवाले सभी नेताओं ने चुप्पी साध ली है.
 
मामला रामपुर के सैफनी के सागरपुर गांव का है जहां हेयर कटिंग की दुकानों पर हिंदू वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल न काटने को लेकर हिंदू संगठनों ने रोष जताया है. एक मीडिया वेबसाइट की खबर के मुताबिक, बजरंग दल के जिला संयोजक जोगेंद्र यादव के नेतृत्व में हिंदू संगठनों से जुड़े पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधीक्षक को संबोधित ज्ञापन थानाध्यक्ष प्रवीण कुमार कटियार को सौंपा. इसमें दोषी बाल काटने वाले दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.
 
बजरंगदल एवं विश्व हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों का कहना है कि सागरपुर गांव में एक समुदाय विशेष की हेयर कटिंग की दुकानें हैं. आरोप है कि इस गांव निवासी वाल्मीकी समाज के लोग जब हेयर कटिंग की दुकान पर बाल कटिंग कराने गए तो दुकानदार ने उन्हें अपमानित कर दुकान से भगा दिया. जब यह बात हिंदू संगठन के लोगों को पता चली तो उन्होंने वाल्मीकि समाज के लोगों के साथ इस भेदभाव की घोर निंदा की.
 
बजरंग दल के क्रांतिवीरों ने कहा कि वो हिंदू समाज के प्रत्येक गरीब, शोषित, वंचित को स्वाभिमान एवं सम्मान दिलाने के लिए संकल्पित है. उन्होंने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि सामाजिक समरसता को हानि पहुंचाने वाले जातिगत, ऊंच-नीच और भेदभाव बढ़ाने वाले ऐसे अआमाजिक तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई कर उनकी दुकानों को बंद किया जाए.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार