सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

चीन के उईगर मुसलमानों के लिए किसी इस्लामिक मुल्क ने नहीं बल्कि आवाज उठाई ईसाइयों के सर्वोच्च पोप फ्रांसिस ने

कुछ समय पहले इन्ही पोप ने चिंता जताई थी रोहिंग्या के लिए.

Rahul Pandey
  • Nov 24 2020 3:59PM

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. इस से पहले भी जब म्यांमार के बौद्ध अपने ही धरती पर दुनिया के सबसे खौफनाक और क्रूर रोहिंग्या के खिलाफ अंतिम लड़ाई लड़ रहे थे तब ईसाइयों के इन्ही सर्वोच्च मजहबी गुरु पोप फ्रांसिस ने बौद्धों के विरुद्ध जाते हुए रोहिंग्या का समर्थन किया था.. यहाँ ये ध्यान रखना भी जरूरी है वर्तमान समय में दुनिया के तमाम ताकतवर ईसाई देश खुद आतंकी हमलो से जूझ रहे हैं.

इस बार भी उन्ही पोप फ्रांसिस ने अपने आप को चीन के खिलाफ खड़ा करते हुए वहां मौजूद झिन्झियांग प्रांत के उईगर मुस्लिमों के पक्ष में बयान देते हुए उन्हें पीड़ित और शोषित बताते हुए उनकी मदद करने के लिए अन्तराष्ट्रीय मदद की अपील की है. यद्दपि उनकी इस अपील का चीन पर कोई असर पड़ेगा अभी ये नहीं कहा जा सकता है.

ये वही पोप हैं जो कुछ समय पहले इन्स्टाग्राम पर ब्राजील की एक अर्धनग्न मॉडल की फोटो को लाइक कर के चर्चा में थे. अपनी एक नई किताब में पोप फ्रांसिस ने पहली बार चीन के मुस्लिम उइगरों के लिए आवाज उठाते हुए कहा कि वे चीन में “सताए हुए” है। “लेट अस ड्रीम: द पाथ टू ए बेटर फ्यूचर” नामक किताब में उन्होने कहा, कोविड -19 महामारी को सरकारों को स्थायी रूप से एक सार्वभौमिक बुनियादी आय स्थापित करने पर विचार करने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

यह किताब 1 दिसंबर को बिक्री के लिए उपलब्ध हो जाएगी। किताब में फ्रांसिस आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तनों की बात करते हुए कहते है कि महामारी के समाप्त होने के बाद असमानताओं को दूर करने की आवश्यकता है। उन्होने कहा, “मुझे लगता है कि अक्सर सताए हुए लोग होते हैं: रोहिंग्या, गरीब उइगर, यज़ीदी।” इसके अलावा वह मुस्लिम देशों में सताए गए ईसाइयों के बारे में भी बात करते हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार