सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

टमाटर 100 के पार, आलू ने लगाई हॉफ सेंचुरी, प्याज 60 के पार

देश के कई शहरों में सदाबहार आलू अब 50 रुपये प्रति किलो के पार जाने को बेकरार है, वहीं प्याज भी अब कई जगहों पचासा पूरी कर चुका है।

Abhishek Lohia
  • Sep 23 2020 12:34PM

हरी सब्जियों की कीमतों में वैसे ही आग लगी है, रही सही कसर आलू, प्याज और टमाटर पूरी कर रहे हैं। महंगाई की पिच पर आलू अभी हॉफ सेंचुरी लगाकर खेल रहा है। देश के कई शहरों में सदाबहार आलू अब 50 रुपये प्रति किलो के पार जाने को बेकरार है, वहीं प्याज भी अब कई जगहों पचासा पूरी कर चुका है। यानी 50 रुपये किलो पहुंचकर प्याज अब आंसू निकालने लगा है। वहीं टमाटर के तेवर और तीखे हुए हैं।

टमाटर की ताबड़तोड़ बैटिंग जारी

शतक लगाने के बाद भी टमाटर की ताबड़तोड़ बैटिंग जारी है और तुरा में 120 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गया है।  उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को देश में टमाटर की औसत खुदरा कीमत 50 रुपये थी, जबकि अधिकतम 120 और न्यूनतम 20 रुपये प्रति किलो। जहां तक आलू की बात करें तो देश में यह 25 से 60 रुपये किलो बिक रहा है, जबकि इसका औसत मूल्य 40 रुपये है। कई सरकारों की बलि लेने वाला प्याज अब ज्यादा उछलने लगा है। मंत्रालय के मुताबिक प्याज 18 से 60 रुपये किलो बिक रहा है। देखें पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक पूरे हिन्दुस्तान में किस भाव पर बिक रहे आलू, टमाटर और प्याज...

केंद्र आलू प्याज टमाटर
तुरा 50 40 120
इम्फाल 50 50 100
ईटानगर 50 50 80
श्रीनगर. 50 40 70
लखनऊ. 35 36 70
गुवाहाटी 35 38 70
पटना 36 35 63
दिल्ली 37 43 62
गुड़गांव 25 20 60
पंचकुला 35 32 60
सोलन 40 40 60
जम्मू 40 45 60
गोरखपुर 40 38 60
देहरादून 36 30 60
रांची 37 50 60
अहमदाबाद 38 38 58
मुंबई 42 49 56
इंदौर 27 20 55
भुवनेश्वर 34 45 55
शिमला 40 40 50
मेरठ 30 40 50
रायपुर 35 35 50
दुर्ग 40 40 50
जयपुर 35 35 50
कटक 33 45 50
नासिक 43 47 46
सूरत 29 45 42
नागपुर 37 28 42
चंडीगढ़ 30 30 40
पुणे 40 33 34
अधिकतम मूल्य 60 60 120
न्यूनतम मूल्य 25 18 20
मॉडल मूल्य 40 40 50

स्रोत:- राज्य नागरिक आपूर्ति विभाग
नोट:- विभिन्न केन्द्रों पर किसी वस्तु की कीमतों में अंतर आंशिक रूप से उसकी किस्म में अंतर होने के कारण है।

सरकार प्याज के रेट न बढ़ने पाए इसके लिए फौरी उपाय करते हुए सरकार ने प्याज की सभी किस्मों के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। केंद्र सरकार के प्याज निर्यात पर पूरी तरह रोक लगाने को लेकर महाराष्ट्र में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। बावजूद इसके दाम तेजी से बढ़ रहे हैं। जहां तक टमाटर की कीमतों में उछाल की बात है तो देश के दक्षिणी और पश्चिमी इलाकों में भारी बारिश से टमाटर की आपूर्ति प्रभावित हुई है।

बता दें देश के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के कारण धान, दलहन, तिलहन, मसाले, फलों और सब्जियों सहित विभिन्न खड़ी फसलों को प्रभावित किया है। शुक्रवार को यह जानकारी संसद को दी गई। रबी और खरीफ दोनों में प्याज को बोया जाता है। महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक में ये फसल मई और नवंबर तक तैयार हो जाती हैं। इसके अलावा मध्य प्रदेश, आंध्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बंगाल में ये फसल इसके आगे-पीछे तैयार होती है। इस साल दक्षिण भारत और महाराष्ट्र में टमाटर की फसल कम रहने की आशंका है। 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार