सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

दिल्ली में बदलेगा स्कूल का टाइम

आदेश में आगे यह भी कहा गया है कि, “स्कूल असेंबली को कम समय के साथ धूप से कवर किए गए इलाकों या कक्षाओं में आयोजित किया जाना चाहिए. स्कूल खत्म होने के बाद डिस्पेर्स के दौरान इसी तरह की देखभाल की जा सकती है.”

Sudarshan News
  • May 12 2022 1:27PM

शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के शुक्रवार 12 मई से दिल्ली (Delhi) के लिए घोषित हीटवेव की चेतावनी के मद्देनजर स्कूलों के लिए कुछ गाइडलाइन जारी की है.

मंत्रालय ने आउटडोर एक्टिविटीज को रोकने और टाइमिंग को बदलने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. शिक्षा मंत्रालय ने स्कूलों को स्कूल समय से पहले शुरू करने और दोपहर से पहले खत्म करने को कहा है.

जल्द शुरू और जल्द खत्म हो स्कूल - एडवाइजरी

गाइडलाइन में कहा गया है कि, "स्कूल के घंटे जल्दी शुरू हो सकते हैं और दोपहर से पहले खत्म हो सकते हैं. स्कूल सुबह 7.00 बजे से हो सकता है. प्रतिदिन स्कूल के घंटों की संख्या कम की जा सकती है. खेल और अन्य बाहरी गतिविधियां जो छात्रों को सीधे धूप में लेकर जाती हैं, उन्हें सुबह-सुबह उचित रूप से मैनेज किया जा सकता है.”

आदेश में आगे यह भी कहा गया है कि, “स्कूल असेंबली को कम समय के साथ धूप से कवर किए गए इलाकों या कक्षाओं में आयोजित किया जाना चाहिए. स्कूल खत्म होने के बाद डिस्पेर्स के दौरान इसी तरह की देखभाल की जा सकती है.”

स्कूल से आने-जाने के लिए परिवहन के लिए शिक्षा मंत्रालय ने कहा कि बसों और वैन में अधिक भीड़ नहीं होनी चाहिए और उन्हें छाया वाले इलाकों में खड़ा किया जाना चाहिए. गाड़ी में पीने का पानी और फर्स्ट ऐड किट उपलब्ध होनी चाहिए, दिशा निर्देश में कहा गया है कि स्कूल जाने वाले या साइकिल से चलने वाले छात्रों को अपने सिर को ढंकने की सलाह दी जानी चाहिए.

मंत्रालय ने पूरी बाजू की शर्ट की भी सलाह दी क्योंकि वे UV किरणों से सुरक्षा देती है और शरीर को ठंडा रखती हैं.
एडवाइजरी में कहा गया है कि बच्चों को सलाह दी जाती है कि वे अपना टिफिन साथ न रखें क्योंकि गर्मी में खाना खराब हो सकता है और कहा कि इसके बजाय गर्म पका हुआ और ताजा भोजन PM POSHAN के तहत उपलब्ध कराया जाना चाहिए.

छात्रों को धूप से बचाए स्कूल - एडवाइजरी
एडवाइजरी ने स्कूलों को ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशंस (ओआरएस) पाउच और आवश्यक चिकित्सा किट से लैस करने के लिए कहा, जिसमें शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को फर्स्ट ऐड का ज्ञान हो.

एडवाइजरी में कहा गया कि आवासीय विद्यालय द्वारा प्रदान किए जाने वाले आहार में नींबू, छाछ और मौसमी फल शामिल होने चाहिए जिनमें पानी की मात्रा अधिक हो.

दिशा निर्देश में कहा गया है कि स्कूलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे ठीक से हवादार हैं, और पर्दे / ब्लाइंड्स का इस्तेमाल सीधे क्लास में प्रवेश करने से सूर्य के प्रकाश को रोकने के लिए किया जा सकता है.

इसमें कहा गया है कि अगर स्कूल "खस [वेटिवर] पर्दे, बांस / जूट की चिक" का इस्तेमाल करने की स्थानीय पारंपरिक प्रथाओं का पालन करते हैं, तो उन्हें जारी रखा जा सकता है. आवासीय विद्यालयों के लिए, छात्रावासों में खिड़कियों पर पर्दे होने चाहिए और परिसर में पानी और बिजली की निरंतर उपलब्धता होनी चाहिए.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार