सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

मुसलमानों के भय से गाँव छोड़ रहे हिन्दू... इतना किया प्रताड़ित कि घर के बाहर "मकान बिकाऊ" का लगाया बोर्ड

मुसलमानों का इतना खौफ की हिन्दुओं ने गाँव छोड़ने का फैसला कर लिया मामला रतलाम के सुराना गाँव का है जहाँ मुसलमानों ने हिन्दुओं पर इतना अत्याचार किया की पूरा हिन्दू समाज गाँव छोड़ने मजबूर हो गया

Prem Kashyap Mishra
  • Jan 19 2022 1:35PM

कहावत है 100 हिन्दुओं के बीच एक मुसलमान रह सकते हैं लेकिन 100 मुसलमानों के बीच 1 हिन्दू कभी नहीं रह सकते। इस कहावत को सत्य होते देखा जा सकता है। मामला रतलाम एक एक गाँव से सामने आया है जहाँ हिन्दुओं को अल्पसंख्यक होने का कर्ज चुकाना पड़ रहा है मुसल्मानों ने हिन्दुओं पर इतना अत्याचार किया उन्हें इतना मारा की अब पूरे गाँव से हिन्दू पलायन करने पर मजबूर हो गए हैं। जिस तरह उत्तर प्रदेश का कैराना क्षेत्र मुस्लिम समुदाय की प्रताड़ना के कारण हिंदुओं के पलायन को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आया था, ठीक वैसी ही स्थिति अब मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के गांव सुराना में बन रही है। इस गांव में रह रहे हिंदू समुदाय के लोग मुस्लिम समुदाय के लोगों की धमकियों और प्रताड़नाओं से भयभीत हैं। मंगलवार को इन्होंने कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर कहा कि यदि हमारी मदद नहीं की गई तो हम तीन दिन में अपना घर, खेत, संपत्ति आदि छोड़कर गांव से पलायन के लिए तैयार हैं। डरे-सहमे हिंदू ग्रामीणों का कहना है कि गांव की कुल आबादी 2200 है, जिसमें 60 प्रतिशत मुस्लिम व 40 प्रतिशत हिंदू हैं। रतलाम कलेक्टर इस मामले में बुधवार को सुबह 11 बजे गांव का दौरा करने पहुंचेंगे।

सुराना गांव रतलाम जिला मु्ख्यालय से करीब 13 किमी दूर बिलपांक थाना अंतर्गत स्थित है। इस गांव में इन दिनों बहुत तनाव है। मंगलवार को गांव में रहने वाले हिंदू समुदाय के लोग रतलाम कलेक्टर आफिस पहुंचे और एसडीएम अभिषेक गेहलोत को ज्ञापन सौंप कर अपनी पीड़ा बताई।

पीड़ित हिंदुओं के मुताबिक गांव में संख्याबल में अधिक होने के कारण मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा हिंदुओं को आए दिन डराया-धमकाया जाता है। पुलिस को सूचना देते हैं तो कार्रवाई के नाम पर दोनों पक्षों को बेवजह परेशान किया जाता है। पिछले दिनों हुए विवाद को लेकर एसपी से मिले तो सुनवाई के बजाय हमें ही घर तोड़ने, रासुका लगाने की धमकी दे दी गई। अब हमें इस गांव में नहीं रहना। तीन दिन में गांव खाली कर देंगे। प्रशासन हमें अन्य स्थान पर जमीन के पट्टे दे दे, जिससे हम सुरक्षित व शांतिपूर्वक रह सकें।

बीते एक साल से दोनों पक्षों के बीच हो रहे विवादों की वजह से माहौल बिगड़ता चला गया। पिछले साल दो बार बड़े विवाद के मामले दर्ज हो चुके हैं। इसके बाद एसपी गौरव तिवारी ने शांति समिति की बैठक लेकर दोनों वर्गों के लोगों से चर्चा की थी। कई लोगों को बाउंडओवर भी किया गया था।

 

मंगलवार दोपहर अपनी पीड़ा प्रशासकीय अधिकारियों को बताने के बाद गांव पहुंचे हिंदुओं ने अपने घरों के बाहर लिख दिया, मकान बेचना है। गांव के सुरेश पांचाल, विनोद जाट आदि ने बताया कि परेशानी को बताने का कोई और रास्ता नहीं था।

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार