सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

PM Modi In Varanasi : पीएम मोदी ने आज दुग्ध प्लांट से लेकर तमाम विकास परियोजनाओं की दी सौगात....संबोधन में गौ माता का कुछ इस प्रकार किया जिक्र

पीएम मोदी ने अपना संबोधन लोगों के अभिवादन से किया। पीएम ने कहा कि वाराणसी के पिंडरा क्षेत्र के प्रणाम करत हईला। जौनपुर के लोगन के भी प्रणाम। आज ये क्षेत्र एक बार फिर से पूरे प्रदेश के किसानों के लिए बहुत बड़े आयोजन का साक्षी बना। आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की जन्म जयंती है।

Shanti Kumari
  • Dec 23 2021 3:00PM

एक हफ्ते में दूसरी बार पीएम मोदी आज फिर वाराणसी एक अहम् कार्य को लेकर पहुंचे। पीएम मोदी का आज वाराणसी पहुंचे का मकसद जनता को 21 सौ करोड़ रूपये की सौगात देना था जो उन्होंने पूरा कर लिया है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी एयरपोर्ट पर दोपहर 12:35 बजे पहुंचे। 12:53 बजे नेताओं से मुलाकात के बाद पिंडरा स्थित कखरियांव में कार्यक्रम स्थल के लिए सड़क मार्ग से निकले। इस दौरान उनके साथ यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे

आपको बता दें कि आज पीएम मोदी ने बटन दबाकर बनास दुग्ध प्लांट से लेकर तमाम विकास परियोजनाओं की सौगात दी है। परियोजनाओं का लोकार्पण करने के बाद पीएम मोदी ने जनता को संबोधित किया जिसके दौरान कई बड़ी बातें कही। संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने गौ माता से लेकर कई मिठाइयों का भी जिक्र किए

पीएम मोदी ने अपना संबोधन लोगों के अभिवादन से किया। पीएम ने कहा कि वाराणसी के पिंडरा क्षेत्र के प्रणाम करत हईला। जौनपुर के लोगन के भी प्रणाम। आज ये क्षेत्र एक बार फिर से पूरे प्रदेश के किसानों के लिए बहुत बड़े आयोजन का साक्षी बना। आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की जन्म जयंती है। उनकी स्मृति में देश किसान दिवस मना रहा है। हमारे यहां गाय की बात करना गोबर की बात करना कुछ लोगों ने ऐसे हालात पैदा कर दिए हैं जैसे कोई गुनाह कर दिया हो। गाय कुछ लोगों केलिए गुनाह हो सकती है हमारे लिए माता है।

पीएम मोदी ने अपना संबोधन लोगों के अभिवादन से किया। पीएम ने कहा कि वाराणसी के पिंडरा क्षेत्र के प्रणाम करत हईला। जौनपुर के लोगन के भी प्रणाम। आज ये क्षेत्र एक बार फिर से पूरे प्रदेश के किसानों के लिए बहुत बड़े आयोजन का साक्षी बना। आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की जन्म जयंती है। उनकी स्मृति में देश किसान दिवस मना रहा है। हमारे यहां गाय की बात करना गोबर की बात करना कुछ लोगों ने ऐसे हालात पैदा कर दिए हैं जैसे कोई गुनाह कर दिया हो। गाय कुछ लोगों केलिए गुनाह हो सकती है हमारे लिए माता है।

पीएम ने कहा, पशुपालक परिवारों की मदद से आज भारत हर साल करीब 8.5 लाख करोड़ रुपये के दूध का उत्पादन करता है। ये राशि, जितना भारत में गेहूं और चावल का उत्पादन होता है, उसकी कीमत से भी कहीं ज्यादा है। इसलिए भारत के डेयरी सेक्टर को मजबूत करना आज हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है।

आगे पीएम कहते है कि डबल इंजन की हमारी सरकार पूरी ताकत से किसानों के लिए काम कर रही है। सहकारिता क्षेत्र में अहम भूमिका निभाने वाली बनास डेयरी और पशुपालकों के बीच एक नई साझेदारी शुरू हुई है। इससे सिर्फ पिंडरा ही नहीं आसपास के सभी क्षेत्रों को इसका लाभ होगा। आसपास के गांवों में दूध खराब होने की चिंता से भी मुक्ति मिलेगी। अच्छे किस्म के पशुओं को पाला जाएगा। दूध दही छास मक्खन के अलावा यहां आइसक्रीम और मिठाइयां भी बनेंगी। यानी बनारस की छेने की मिठाईयां या लौंगलता का स्वाद और बढ़ जाएगा। अब तो मलईयो का मौसम भी आ ही गया है। एक प्रकार से बनास काशी संकुल बनारस के रस को और बढ़ा देगा।

पीएम ने कहा, 6-7 वर्ष पहले की तुलना में देश में दूध उत्पादन लगभग 45 प्रतिशत बढ़ा है। आज भारत दुनिया का लगभग 22 प्रतिशत दूध उत्पादन करता है। मुझे खुशी है कि यूपी आज देश का सबसे अधिक दूध उत्पादक राज्य तो है ही, डेयरी सेक्टर के विस्तार में भी बहुत आगे है। मेरा अटूट विश्वास है कि देश का डेयरी सेक्टर, पशुपालन, श्वेत क्रांति में नई ऊर्जा, किसानों की स्थिति को बदलने में बहुत बड़ी भूमिका निभा सकती है। इस विश्वास के कई कारण भी हैं। तीसरा ये कि पशुपालन, महिलाओं के आर्थिक उत्थान, उनकी उद्यमशीलता को आगे बढ़ाने का बहुत बड़ा जरिया है। और चौथा ये कि जो हमारा पशुधन है, वो बायोगैस, जैविक खेती, प्राकृतिक खेती का भी बहुत बड़ा आधार है। पहला ये कि पशुपालन, देश के छोटे किसान जिनकी संख्या 10 करोड़ से भी अधिक है, उनकी अतिरिक्त आय का बहुत बड़ा साधन बन सकता है। दूसरा ये कि भारत के डेयरी प्रॉडक्ट्स के पास, विदेशों का बहुत बड़ा बाजार है जिसमें आगे बढ़ने की बहुत सारी संभावनाएं हमारे पास हैं।

पीएम ने कहा कि पहले खेती आदि सबकुछ प्राकृतिक होता था लेकिन समय के साथ दबाव बढ़ता गया और प्राकृतिक खेती कम होती गई। लेकिन अब एक बार फिर समय की मांग है कि हम प्राकृतिक खेती की ओर लौटें। मैं अपने किसान भाई-बहनों से आग्रह करता हूं कि आप प्राकृतिक खेती की तरफ आगे बढ़ें। इसमें खर्च कम होता है उत्पाद भी बढ़ता है। ये सबसे सुरक्षित तरीका है और इससे उपजे फसलों की कीमत भी ज्यादा मिलती है।

किसानों को आत्मनिर्भर बनाने, अवैध कब्जे से मुक्त करने में स्वामित्व योजना की बड़ी भूमिका है। योगी जी के नेतृत्व में ये काम सफलतापूर्वक हो रहा है। करीब 21 लाख परिवारों को घरौनी के दस्तावेज दिए गए हैं। अब किसी पिछड़े दलित या कमजोर लोगों को अपने घर पर कब्जे की चिंता नहीं होगी। घरौनी मिलने से जरूरत पड़ने पर बैंकों से लोन लेना आसान होगा। रोजगार के माध्यम उपलब्ध होंगे। विकास की जब बात आती है तो काशी अपने आप में मॉडल बनता जा रहा है। पुरातन व्यवस्था बनाए रखते हुए आधुनिकता की ओर कैसे बढ़ा जा सकता है उसे काशी दिखा रहा है। लंगर हॉल के बनने से यहां देशभर से आने वाले श्रद्धालुओं को भी सुविधा होगी। नए पार्किंग स्थलों का निर्माण हो रहा है जिससे जाम से बहुत राहत मिल रही है। दिल्ली कानपुर आगरा से आने वाले लोगों को यहां आने में काफी सुविधा होगी। वाराणसी भदोही गोपीगंज के सड़क चौड़ीकरण से शहर से निकलने वाली गाड़ियां बाहर से निकल जाएंगी जिससे जाम कम होगा। उन्होंने चिकित्सा और बुनकरों के लिए किए गए काम के बारे में भी बताया।

कुछ लोगों को यूपी के विकास की बात करने से तकलीफ होती है। ये लोग नहीं चाहते कि काशी का विकास हो। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास की बातें भी उनके सिलेबस में ही नहीं है। उनकी सोच, बोलचाल सिलेबस में क्या है सब जानते हैं- माफियावाद, परिवारवाद, जमीनों पर अवैध कब्जा। पहले की सरकारों के समय यूपी के लोगों को जो मिला और आज लोगों को हमारी सरकार से जो मिल रहा है उसका फर्क साफ है। हम यूपी में विरासत को बढ़ा रहे हैं और विकास को भी। लेकिन अपना स्वार्थ सोचने वाले इन लोगों को पूर्वांचल के विकास से, बाबा के काम से, विश्वनाथधाम के काम से आपत्ति होने लगी है। मुझे बताया गया कि बीते रविवार डेढ़ लाख से ज्यादा श्रद्धालु काशी विश्वनाथ धाम पहुंचे थे। यूपी को पीछे धकेलने वाले इन लोगों की नाराजगी और बढ़ेगी। लेकिन जैसे जैसे आपका आशीर्वाद हमारे लिए बढ़ता जाता है उनका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंचेगा। डबल इंजन की सरकार यूपी के लिए ऐसी ही मेहनत करती रहेगी। हम विकास के नए रिकॉर्ड बनाते रहेंगे। आप सभी को सभी विकास परियोजनाओं की आप सभी को बधाई। अंत में पीएम ने भारत माता की जय के नारे लगवाए और अपना संबोधन को विराम दिया।


सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार