सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

फिर से 'मंजूरी' की 'मज़बूरी' में फंसी 'कोवेक्सीन', WHO ने मांगी और जानकारी

अब स्वदेशी वैक्सीन के आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी को लेकर तीन नवंबर को बैठक होगी और फैसला लिया जाएगा कि इसे WHO की आपातकालीन उपयोग सूची में शामिल किया जाए या नहीं। WHO ने कहा कि कंपनी से इस हफ्ते के अंत तक अतिरिक्त जानकारी मिल जाने की उम्मीद है।

Kartikey Hastinapuri
  • Oct 27 2021 8:37AM

भारत बायोटेक (Bharat Biotech) के कोवैक्सीन (Covaxin) को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के तकनीकी सलाहकार समूह ने मंगलवार को ‘कोवैक्सीन’ को आपातकालीन उपयोग की सूची में शामिल करने के लिए अंतिम ‘लाभ-जोखिम मूल्यांकन’ करने के वास्ते Bharat Biotech से ‘अतिरिक्त स्पष्टीकरण’ मांगा है। 

WHO के प्रवक्ता ने जताई थी उम्मीद 

इससे पहले डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता उम्मीद जताई थी कि यदि समूह आंकड़ों से संतुष्ट होता है तो 24 घंटे के भीतर अपनी सिफारिशें दे देगा। उल्लेेखनीय है कि WHO का तकनीकी सलाहकार समूह भारत बायोटेक की कोरोना रोधी कोवैक्सीन को आपातकाल में इस्तेमाल के लिए स्वीकृत सूची (ईयूएल) में शामिल करने पर विचार कर रहा है।

अभी चाहिए 'अतिरिक्त स्पष्टीकरण' : WHO 

वैक्सीन को आपातकलीन उपयोग की सूची में शामिल करने के संबंध में पीटीआई-भाषा की तरफ से ईमेल के माध्यम से पूछे गए एक सवाल के जवाब में डब्ल्यूएचओ ने कहा, 'तकनीकी सलाहकार समूह ने आज (मंगलवार को) बैठक की और फैसला किया कि टीके के वैश्विक उपयोग के मद्देनजर अंतिम लाभ-जोखिम मूल्यांकन के वास्ते निर्माता से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगे जाने की जरूरत है।'इसने कहा कि समूह को निर्माता से यह स्पष्टीकरण इस सप्ताह के अंत तक मिलने की संभावना है जिस पर तीन नवंबर को बैठक करने का लक्ष्य है।

19 अप्रैल को EUL के लिए किया था आवेदन

हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने EUL के लिए 19 अप्रैल को WHO के समक्ष आवेदन किया था। कोवैक्सीन को कोरोना के खिलाफ 77.8 प्रतिशत और डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ 65.2 प्रतिशत प्रभावी पाया गया है। जून में कंपनी ने कहा था कि उसने तीसरे चरण के नतीजों के अंतिम आंकलन का काम पूरा कर लिया है। कोवैक्सीन को EUL में शामिल करने पर विचार करने के लिए मंगलवार को TAG  की बैठक हुई थी।

WHO  ने कहा कि TAG की आज (मंगलवार) बैठक हुई और वैक्सीन के वैश्विक इस्तेमाल के लिए जोखिम और लाभ का आकलन करने के लिए कंपनी से अतिरिक्त जानकारी मांगने का फैसला किया गया। प्रेट्र की तरफ से मेल के जरिये मांगे गए जवाब में WHO ने कहा कि उसे कंपनी से इस हफ्ते के अंत तक अतिरिक्त जानकारी मिल जाने की उम्मीद है। कोवैक्सीन पर विचार करने के लिए अगली बैठक तीन नवंबर को होगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, मंगलवार तक देश में कुल कोरोना वैक्सीन की 103 करोड़ से अधिक खुराकें लगाई जा चुकी हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार