सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

पाकिस्तान की जीत पर 'गद गद' हुए 'गद्दारो' पर भड़के सहवाग, बोले- क्या सिर्फ दिवाली पर ही बैन है पटाखे'

टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया को पाकिस्तान के हाथों मिली हार के बाद दिल्ली के कई इलाकों में पटाखे की गूंज सुनी गई. पाकिस्तान के हाथों भारत की हार के बाद पटाखे जलाने को लेकर भारत के पूर्व विस्फोट बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कड़ी आपत्ति दर्ज जताई है.

Kartikey Hastinapuri
  • Oct 25 2021 1:49PM

कल हुए भारत पाकिस्तान के मैच में भारत को पाकिस्तान ने करारी शिकस्त दी, जिससे पूरे देश के मन में कही न कही दुःख जरूर था।  लेकिन इसी भारत में कुछ लोग ऐसे भी थे, जो देश के हारने के बाद खुश हो रहे थे।  कुछ 'पाकिस्तान परस्त' लोग न सिर्फ खुश हुए बल्कि उन्होंने पाकिस्तान टीम की जीत के जश्न में पटाखे भी फोड़े।  

बीती रात जब पाकिस्तान जीता तो देश की राजधानी दिल्ली के सीमापुरी इलाके से पटाखे फोड़ने की आवाज़े सुनाई दी, वहीं कश्मीर में तो लोगो के जश्न मनाने की कुछ तस्वीरें भी इंटरनेट पर वायरल हो रही है, जो बताई जा रही है कि कश्मीर की ही है। 

वहीं दिल्ली में दिवाली के लिए पटाखों की बिक्री और उसके इस्तेमाल पर पूरी तरह से पाबंदी है, तो सवाल ये उठता है की क्या सिर्फ हिन्दुओ के त्योहारों से ही प्रदूषण है खतरा होता है ? या फिर देश द्रोहियो को दिल्ली सरकार की तरफ से कोई बाहरी ताक़त प्रदान की जाती है। इसी सवाल को ट्वीट करते हुए पूर्व भारतीय क्रिक्रेट खिलाडी वीरेंदर सेहवाग ने भी ट्वीट किया है। 

सहवाग ने किया ट्वीट 

सहवाग ने ट्वीट के जरिये कहा है कि-"जब भारत में पटाखे पूरी तरह बैन हैं तो अचानक ये कहां से आ गए. सहवाग ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए लिखा है कि दिवाली के दौरान पटाखों पर प्रतिबंध है, लेकिन भारत के कुछ हिस्सों में पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के लिए पटाखे जलाए गए. अच्छा वे क्रिकेट की जीत का जश्न मना रहे होंगे. तो दीपावली पर पटाखों में क्या हर्ज है. पाखंड क्यों, सारा ज्ञान तब ही याद आता है."

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार