सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

सुप्रीम कोर्ट से नोएडा और ग्रेटर नोएडा के डेवलपर्स को मिली बड़ी राहत

सुप्रीम कोर्ट से नोएडा और ग्रेटर नोएडा के डेवलपर्स को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने अथॉरिटी को जनवरी, 2010 से डेवलपर्स पर बकाया रकम का ब्याज भारतीय स्टेट बैंक की सीमांत लागत उधार दर (एमसीएलआर) से जोड़ने का आदेश दिया है।

Anchal Yadav
  • Jul 13 2020 9:03AM
सुप्रीम कोर्ट से नोएडा और ग्रेटर नोएडा के डेवलपर्स को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने अथॉरिटी को जनवरी, 2010 से डेवलपर्स पर बकाया रकम का ब्याज भारतीय स्टेट बैंक की सीमांत लागत उधार दर (एमसीएलआर) से जोड़ने का आदेश दिया है।जस्टिस अरुण मिश्रा और यूयू ललित की पीठ द्वारा दिए गए आदेश के मुताबिक, डेवलपर्स को जनवरी, 2010 से बकाये रकम पर ब्याज एसबीआई के एमसीएलआर के अनुसार चुकाना होगा। अभी करीब तीन साल के कर्ज पर एसबीआई का एमसीएलआर करीब 7.3 फीसदी है। इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए अंतरिक्ष इंडिया ग्रुप के सीएमडी राकेश यादव ने कहा कि डेवलपर्स पर ब्याज का बोझ कम होगा, जिससे उन्हें अपना बकाया भुगतान करने में मदद मिलेगी। साथ ही डेवलपर्स को अथॉरिटी से पूर्णता प्रमाण पत्र (कम्पलीशन सर्टिफिकेट) लेने में आसानी होगी। इससे करीब 1.25 लाख फ्लैट का पजेशन मिलना संभव होने की उम्मीद है। यह नोएडा-ग्रेटर नोएडा के प्रॉपर्टी बाजार को प्रोत्साहन देने का काम करेगा..20 फीसदी से ज्यादा ब्याज देना होता था अभी
अभी तक कई मामलों में पेनल्टी लगने से डेवलपर्स को 20 फीसदी से अधिक दर पर ब्याज चुकाना होता था। इस फैसले के आने के बाद करीब 7.3 फीसदी की दर से ब्याज चुकाना होगा। वह भी पिछले 10 साल के बकाये रकम पर। हालांकि, बिल्डरों को तीन महीने के भीतर 25% बकाया का भुगतान करना होगा। कोर्ट के आदेश के मुताबिक, सभी बकाया राशि को एक वर्ष के चुकाना होगा।नोएडा अथॉरिटी के आवेदन को रद्द किया
सुप्रीम कोर्ट ने अथॉरिटी की ओर से ब्याज की नई दर लाने की पेशकश को खारिज कर दिया और कहा कि यह 1 जनवरी, 2010 से सभी लीज होल्डर के लिए लागू होगा। नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी की ओर से पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता उपस्थित हुए थे। कोर्ट ने कहा कि उच्च ब्याज दर के कारण डेवलपर्स कर्ज चुकाने में सक्षम नहीं है। कोर्ट ने बैंकों को भी लोन एग्रीमेंट का मामला बिना देरी के 10 दिन में पूरा करने का निर्देश दिया। सोसाइटी के पजेशन प्रतिक्रिया तेज होगी
रियल एस्टेट विशेषज्ञ पद्रीम मिश्रा ने बताया कि इस फैसले का सबसे बड़ा फायदा हाससिंग सोइटी के कम्पलीशन सर्टिफिकेट पर देखने को मिलेगा। नोएडा-ग्रेटर नोएडा में लाखों फ्लैट का पजेशन अथॉरिटी का बकाया नहीं चुकाने के कारण अटका हुआ है। इस फैसले के बाद इसमें बड़ी राहत मिलेगी। घर खरीदारों को उनके घर की चाबी मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार