सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

बदन सिंह बद्दो : एक ट्रांसपोर्टर कैसे बना जरायम की दुनिया का बड़ा नाम.. आज STF का दुश्मन नम्बर-1 है ढाई लाख का इनामी बदन सिंह बद्दो..

बदन सिंह बद्दो पर है ढाई लाख का ईनाम, नीदरलैंड में बैठ कर चला रहा अपना कारोबार, यूपी पुलिस का मोस्ट वांटेड अपराधी है बदन सिंह बद्दो

रजत मिश्र, उत्तर प्रदेश, ट्विटर- @rajatkmishra1
  • Jul 11 2020 6:55PM

कानपुर शूट आउट के बाद यूपी पुलिस के निशाने पर उत्तर प्रदेश के सभी बड़े कुख्यात बदमाश है। विकास दुबे के ऊपर 5 लाख का इनाम घोषित होने से उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा इनामी बदमाश बदन सिंह था जिसने मेरठ से अपराध की दुनिया मे कदम रखा। बदन सिंह बद्दो पर ढाई लाख का इनाम है। मेरठ के अतिरिक्त दिल्ली, पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों में बदन सिंह की संपत्ति बताई जाती है। 

पंजाब से कैसे मेरठ पहुंचा बदन सिंह -

बदन सिंह पंजाब में पैदा हुआ, 7 भाइयों में सबसे आखिर में जन्मा बदन सिंह धीरे धीरे अपराध की दुनिया का इतना बड़ा चेहरा बन गया कि 8 पुलिस वालों की हत्या के बाद यूपी पुलिस द्वारा जारी 33 शातिर बदमाशों की सूची में पहले नंबर पर आ गया। बदन सिंह पहले मेरठ की गलियों का छोटा-मोटा गुंडा था। 1970 में पंजाब के अमृतसर से मेरठ आकर इसके पिता ने ट्रांसपोर्ट का धंधा शुरू किया था। सात भाइयों में सबसे छोटा बदन सिंह भी पिता के काम से जुड़ गया। इसके बाद वह अपराधियों के संपर्क में आया था। 80 के दशक में वह मेरठ के मामूली बदमाशों के साथ मिलकर शराब की तस्करी किया करता था। इसी दौरान वह पश्चिमी यूपी के कुख्यात गैंगस्टर रविंद्र भूरा के गैंग के संपर्क में आया और उसमें शामिल हो गया। 1988 में उसने जरायम की दुनिया में आमद की। इसके बाद उसने पलटकर नहीं देखा, कारोबार और जुर्म दोनों ही जगह उसने अपनी पहचान बना ली।

1988 में बदन सिंह ने की पहली हत्या -

बद्दो पर 1988 में सबसे पहले हत्या का मामला दर्ज हुआ। बदन सिंह ने व्यापारिक मतभेद के चलते राजकुमार नामक एक व्यक्ति को दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या कर दी थी। इसके बाद उसने 1996 में वकील रविंद्र सिंह हत्या कर दी। इसी केस में 31 अक्टूबर 2017 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई, लेकिन वह महज 17 महीने बाद ही फरार हो गया। उसने साल 1996 में एक वकील की हत्या को अंजाम दिया। साल 2011 में उसने मेरठ जिला पंचायत के सदस्य संजय गुर्जर का मर्डर किया, इसके बाद साल 2012 में उसने एक केबल नेटवर्क के संचालक पवित्र मैत्रे को मौत के घाट उतार दिया। 28 मार्च 2019 को पूर्वांचल की जेल से उसे गाजियाबाद कोर्ट में पेशी पर ले जाते वक्त बदन सिंह भागने में कामयाब हो गया।

2019 से बदन सिंह को ढूढ़ रही है पुलिस-

पुलिस कस्टडी से भागे बदन सिंह को अब तक पुलिस पकड़ने में कामयाब नही हो पाई है। हालांकि कई बार पुलिस को उसकी लोकेशन पंजाब में मिली लेकिन बदन सिंह पुलिस की पहुँच से दूर होता चला गया। 

पुलिस के डर से विदेश में छिपा है बदन सिंह -

बदन सिंह के फरार होने के बाद अब उसका कोई सुराग नहीं मिल रहा है। 28 मार्च 2020 को लुक आउट नोटिस की अवधि को आगे बढ़ाया गया। बदन सिंह पर फिरौती, हत्या, हत्या की कोशिश, अवैध हथियार रखने और उनकी आपूर्ति करने और बैंक डकैती जैसे 40 के करीब अन्य मामले दर्ज हैं। सूत्रों की मानें तो फिलहाल बदन सिंह देश छोड़कर विदेश भाग गया है और उसकी अंतिम लोकेशन नीदरलैंड की बताई जा रही है। वह वहीं बैठकर अपने लोकल गुर्गों जरिए क्राइम की दुनिया में अपनी मौजूदगी दर्ज करा रहा है।

लग्जरी चीजों का शौकीन है बदन सिंह - 

 गैंगस्टर बदन सिंह बद्दो का रहन सहन देखकर कोई भी उसके शौक का अंदाजा आसानी से लगा सकता है। उसकी शानो-शौकत भरी ज़िंदगी देखकर कोई यकीन नहीं करेगा कि वो एक मोस्ट वॉन्टेड अपराधी है। महंगी विदेशी बंदूकें, विदेशी नस्ल के कुत्ते, बुलेटप्रूफ कारों का जत्था, सीसीटीवी समेत आधुनिक सुरक्षा तंत्र, किसी महल जैसा आलीशान घर, लुई विटॉन जैसे महंगे ब्रांड के जूते और कपड़े पहनना बदन सिंह बद्दों को अन्य अपराधियों से अलग बनाता है. उसका लाइफ स्टाइल देखकर आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं कि वो एक शातिर अपराधी है।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें