सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

जानिए आखिर क्यों चौंक गए बनारस के समाजसेवी जब पीएम मोदी बोले कि आप भगवान शिव का स्वरूप...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बनारस के समाजसेवियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया संवाद, पीएम बोले आप के कामों से मुझको मिल रही है प्रेरणा, सावन माह की सभी बनारस वासियों को दी शुभकामनाएं..

रजत मिश्र, उत्तर प्रदेश, ट्विटर- @rajatkmishra1
  • Jul 9 2020 5:01PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के अन्न सेवियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिये संवाद किया। उन्होंने अपने संवाद के दौरान वाराणसी के समाज सेवियों और अन्न सेवियों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि वाराणसी के लोगों ने कोरोना संकट में जिस तरह काम किया है, उससे मुझे प्रेरणा मिलती है। सहयोग और मानव सेवा का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत करने वाली कुछ संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ संवाद कर उनके अनुभव जाने। 

 वीडिया कांफ्रेंसिंग के दौरान गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट के गंगाधर उपाध्याय, राष्ट्रीय रोटी बैंक की पूनम सिंह, सम्पूर्ण सिन्धी समाज सिगरा के सुरेन्द्र लालवानी, समाजसेवी अनवर अहमद व एचडीएफसी बैंक के मनोज टण्डन प्रधानमंत्री से सीधे संवाद कर अपने अनुभव साझा किया। उन्होंने अखिल भारतीय केशरवानी वैश्‍य युवक सभा के प्रतिनि‍धि संदीप केसरी से भी संवाद किया और लॉकडाउन के दौरान किए गए कार्यों की सराहना की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस समय पवित्र सावन मास का समय चल रहा है और दुनिया भर से लोग इस समय भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए बनारस आने की इच्छा रखते हैं ऐसे में मेरी भी भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने की इच्छा थी लेकिन आज आप लोगों के दर्शन करने से मेरी उस इच्छा की पूर्ति हो गई। काशी के सभी वासी भगवान शिव के स्वरूप है। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये भगवान शंकर का ही आशीर्वाद है कि कोरोना के इस संकट काल में भी हमारी काशी उम्मीद से भरी हुई है, उत्साह से भरी हुई है।

पीएम मोदी ने कहा कि ये सही है कि लोग बाबा विश्वनाथ धाम नहीं जा पा रहे, ये सही है कि मानस मंदिर, दुर्गाकुंड, संकटमोचन में सावन का मेला नहीं लग पा रहा है लेकिन ये भी सही है कि इस अभूतपूर्व संकट के समय में और मेरी काशी, हमारी काशी ने, इस अभूतपूर्व संकट का जुटकर मुकाबला किया है। 

पीएम ने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए कौन क्या कदम उठा रहा है, अस्पतालों की स्थिति क्या है, कहां क्या व्यवस्थाएं की जा रही हैं, क्वारंटीन को लेकर क्या हो रहा है, बाहर से आए श्रमिक साथियों के लिए क्या प्रबंध हो रहे हैं, ये सारी जानकारियां मुझे मिल रही थीं। पीएम ने कहा कि पुरानी मान्यता है कि एक समय महादेव ने खुद मां अन्नपूर्णा से भिक्षा मांगी थी, तभी से काशी पर ये विशेष आशीर्वाद रहा है कि यहां कोई भूखा नहीं सोएगा, मां अन्नपूर्णा और बाबा विश्वनाथ, सबके खाने का इंतज़ाम कर देते है।

कम समय में फूड हेल्पलाइन और कम्यूनिटी किचन का व्यापक नेटवर्क तैयार करना, हेल्पलाइन विकसित करना, डेटा साइंस की मदद लेना, वाराणसी स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का भरपूर इस्तेमाल करना, यानि हर स्तर पर सभी ने गरीबों की मदद के लिए पूरी क्षमता से काम किया। पीएम ने कहा कि मुझे बताया गया है कि जब जिला प्रशासन के पास भोजन बांटने के लिए अपनी गाड़ियां कम पड़ गईं तो डाक विभाग ने खाली पड़ी अपनी पोस्टल वैन इस काम में लगा दीं। सोचिए, सरकारों की, प्रशासन की छवि तो यही रही है कि पहले हर काम को मना किया जाता है।

जब इस बार महामारी आई, तो सभी भारत को लेकर डरे हुए थे। इतनी आबादी, इतनी चुनौतियां, बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स निकल आए थे भारत पर सवाल खड़े करने के लिए। इसमें भी 23-24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश को लेकर तो शंकाएं-आशंकाएं और भी ज्यादा थीं लेकिन आपके सहयोग ने, उत्तर प्रदेश के लोगों के परिश्रम ने, पराक्रम ने सारी आशंकों को ध्वस्त कर दिया। आज स्थिति ये है कि उत्तर प्रदेश ने न सिर्फ संक्रमण की गति को काबू में किया हुआ है बल्कि जिन्हें कोरोना हुआ है, वो भी तेज़ी से ठीक हो रहे हैं।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार