सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

नेपाल: विश्वास मत हारने के तीन दिन बाद केपी ओली फिर प्रधानमंत्री नियुक्त

नेपाल की राष्ट्रपति विद्या भण्डारी ने नेपाल की संविधान के तहत सबसे बड़े दल के नेता होने के कारण ओली को प्रधानमंत्री पद पर नियुक्त किया है.

Sudarshan News
  • May 14 2021 12:06AM

केपी शर्मा ओली को एक बार फिर नेपाल के प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त हो गए हैं. नेपाल की राष्ट्रपति विद्या भण्डारी ने नेपाल की संविधान के तहत सबसे बड़े दल के नेता होने के कारण ओली को प्रधानमंत्री पद पर नियुक्त किया है. नेपाल की संसद में विश्वास का मत हारने के बाद राष्ट्रपति ने गठबन्धन की सरकार बनाने के लिए तीन दिन का समय दिया था. लेकिन नेपाल की विपक्षी पार्टियों की तमाम कोशिश के बावजूद बहुमत जुटाने में नाकाम रहे.

गठबन्धन की सरकार के लिए तय समय सीमा आज रात 9 बजे समाप्त होने के साथ ही राष्ट्रपति भण्डारी ने संविधान की धारा 76(3) के तहत सबसे बडे दल के रूप में नियुक्त किया है. केपी ओली कल यानि कि शुक्रवार की दोपहर को 2:30 बजे शपथग्रहण लेंगे. ओली को सदन में विश्वास का मत हासिल करने के लिए 30 दिनों का समय मिलने वाला है.

मोर्चाबन्दी करने में विपक्षी दल असफल

नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के खिलाफ मोर्चाबन्दी कर गठबन्धन बनाने में यहां के विपक्षी दलों को असफलता हाथ लगी. तीन दिन पहले ही संसद में ओली के खिलाफ 93 के मुकाबले 124 वोट प्राप्त करने वाले विपक्षियों को बहुमत जुटाने के लिए सिर्फ 12 सांसदों के समर्थन की आवश्यकता थी. लेकिन तीन दिन की मशक्कत के बावजूद उनको इसमें सफलता नहीं मिली.

नेपाल की प्रमुख विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस, माओवादी और जनता समाजवादी पार्टी अगर एकजुट रहती तो ओली के खिलाफ बहुमत आसानी से जुट सकता था. लेकिन ओली के बिछाए जाल में विपक्षी पार्टियां इस कदर उलझ गई कि वो ना तो विपक्षी एकता ही बचाने में कामयाब हो पाई और ना ओली को सत्ता से बेदखल ही कर पाई.

सरकार बनाने में निर्णयाक भूमिका में रही जनता समाजवादी पार्टी में आए विभाजन के कारण विपक्षी गठबन्धन नहीं बन पाया. इस पार्टी का एक खेमा ओली को ही दुबारा प्रधानमंत्री में नियुक्ति चाहता था क्योंकि पिछले दिनों ओली ने मधेश मुद्दे के समाधान के लिए कई ठोस कदम उठाए और विश्वास का वातावरण बनाया था.


 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार