सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

भारत-चीन के बीच कमांडर्स स्तर की बैठक साढ़े पांच घंटे बाद हुई खत्म

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर बैठक खत्म हो गई. ये बैठक करीब साढ़े पांच घंटों तक चली.

Abhishek Lohia
  • Jun 6 2020 8:56PM
भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर बैठक खत्म हो गई. ये बैठक करीब साढ़े पांच घंटों तक चली. 

भारत की तरफ से इस बैठक का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह कर रहे थे. अब वे लेह लौट रहे हैं. ये मीटिंग शनिवार सुबह साढ़े 11 बजे शुरू हुई और शाम 5 बचे तक चली. चीन की तरफ से मेजर जनरल लियु लीन नेतृत्व कर रहे थे.

आखिर क्या है भारत और चीन के बीच विवाद
भारत और चीन के बीच 3488 किमी लंबी सीमा है. ये सीमा जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से होकर गुजरती है. पूरी सीमा 3 क्षेत्रों में बंटी हुई है. पश्चिमी सेक्टर यानि कि जम्मू-कश्मीर, मध्य क्षेत्र यानि कि हिमाचल प्रदेश-उत्तराखंड और पूर्वी सेक्टर यानि कि सिक्किम-अरुणाचल प्रदेश. मौजूदा विवाद पश्चिमी क्षेत्र के दो इलाकों में. ये इलाके हैं- गैलवान घाटी और पेंगोंग झील से सटा फिंगर एरिया.

लद्दाख में स्थित गैलवान घाटी की सीमा के पास चीन ने 80 टैंट बना लिए हैं. इसके जवाब में भारत ने अपनी सीमा में भी 60 टैंट बना लिए हैं. यहां भारत ने एक डिफेंस फिसेलिटी सेंटर भी बना रखा है. चीन इस सेंटर को गैर-कानूनी बता रहा है. न सिर्फ ये डिफेंस सेंटर बल्कि सीमा के पास बनाई गईं दो सड़कें भी चीन की बेचैनी बढ़ा रही है.

पेंगोंग झील से सटा फिंगर एरिया
भारत और चीन के बीच दूसरा विवाद पेंगोंग झील से सटा फिंगर एरिया है. पेंगोंग झील से सटी पहाड़ियों को फिंगर एरिया कहा जाता है. इनमें से आठ पहाड़ियों पर चीन अपना दावा कर रहा है, जबकि ये इलाका भारत का है. इनमें से भारत के पास सिर्फ चार पहाड़ियां ही हैं. बाकी चार पहाड़ियों पर चीन कब्जा जमाए बैठा है. चौथी पहाड़ी पार कर पांचवीं पहाड़ी पर कब्जा करने की चीन लगातार कोशिश करता रहता है. इस साल मई महीने में दोनों देशों की सेनाओं के बीच विवाद ज्यादा ही बढ़ गया है.

हाल ही में भारत और चीन के सैनिक गत पांच मई को पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग त्सो क्षेत्र में लोहे की छड़ और लाठी-डंडे लेकर आपस में भिड़ गए थे. उनके बीच पथराव भी हुआ था. इस घटना में दोनों पक्षों के सैनिक घायल हुए थे. पांच मई की शाम को चीन और भारत के 250 सैनिकों के बीच हुई यह हिंसा अगले दिन भी जारी रही. इसके बाद दोनों पक्ष ‘‘अलग’’ हुए. बहरहाल, गतिरोध जारी रहा. इसी तरह की एक घटना में नौ मई को सिक्किम सेक्टर में नाकू ला दर्रे के पास लगभग 150 भारतीय और चीनी सैनिक आपस में भिड़ गए थे.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
2 Comments

जय हिंद

  • Guest
  • Jun 7 2020 12:35:22:190PM

ये नया भारत है

  • Guest
  • Jun 7 2020 12:35:16:360PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार