सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

International Day of Democracy: अगर भारत में बचानी है Democracy तो वज्र प्रहार करना होगा Demography बदलने की कोशिश कर रही उन्मादी ताकतों पर

सुदर्शन इस बात को लेकर पहले से ही आगाह करता रहा है और आज International Day of Democracy पर एक बार पुनः इस बात को दोहरा रहा है कि अगर देश में डेमोक्रेसी बचानी है, तो भारत की डेमोग्राफी को बदलने से बचाना होगा.

Abhay Pratap
  • Sep 15 2021 3:52PM

आज विश्व लोकतांत्रिक दिवस मनाया जा रहा है. भारत के लिहाज से देखें तो यहां लोकतंत्र का एक अलग ही महत्व है क्योंकि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है. हम भी लोकतंत्र तथा लोकतांत्रिक प्रणाली का समर्थन करते हैं लेकिन भारत के डेमोक्रेसी की आड़ में डेमोग्राफी बदलने की जो साजिश हो रही है, हमें न सिर्फ उस साजिश को समझने बल्कि उस साजिश को बेनकाब करने की भी जरूरत है. भारत में लोकतंत्र बना रहे, लोगों के अधिकार बने रहें, इसीलिए हम लंबे समय से जनसंख्या नियंत्रण क़ानून की मांग कर रहे हैं.

भारत में जो हम 4 हमारे 44 वाली मानसिकता है, वह डेमोक्रेसी की आड़ में भारत की डेमोग्राफी को बदलने की कोशिश में जुटी हुई है. और भारत ही नहीं बल्कि दुनिया का इतिहास गवाह है कि जहां जहां हम 4 हमारे 44 वाली मानसिकता अपनी साजिश में कामयाब हुई है, वहां की डेमोग्राफी को बदलने में कामयाब रही है, वहां डेमोक्रेसी का खात्मा हो गया है.

ऐसा भारत के भी कई हिस्सों में हो चुका है जहां हम चार हमारे 44 वाली मानसिकता के कारण पूरे के पूरे क्षेत्र की डेमोग्राफी बदल चुकी है तथा वहां समय समय पर लोकतंत्र के बजाय उनके मजहबी कानून हावी होते दिखाई देते हैं. तमाम मजहबी उन्मादी डेमोक्रेसी की आड़ में, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में डेमोक्रेसी को ही धता बताते हुए भारतीय संवैधानिक कानूनों के बजाय अपने मजहबी शरिया कानून को लागू कर रहे हैं.

सुदर्शन इस बात को लेकर पहले से ही आगाह करता रहा है और आज International Day of Democracy पर एक बार पुनः इस बात को दोहरा रहा है कि अगर देश में डेमोक्रेसी बचानी है, तो भारत की डेमोग्राफी को बदलने से बचाना होगा. जिस दिन भारत की डेमोग्राफी बदल गई, उस भारत में न तो लोकतंत्र रहेगा और न ही भारत का संविधान. इसके लिए जरूरी है कि हम 4 हमारे 44 वाली मानसिकता को यहीं पर रोक लिया जाए, और ऐसा तभी संभव होगा जब दो बच्चों का कठोर क़ानून बनेगा, हम 4 हमारे 44 की जगह हम दो हमारे दो तो सबके दो का क़ानून बनेगा.

जनसंख्या नियंत्रण क़ानून की इसी मांग के साथ समस्त देशवासियों को International Day of Democracy की हार्दिक मंगलकामनाएं.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार