सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

दिल्ली से लौट कर अस्पताल या घर नहीं बल्कि कई गांवों में गए घूमे वो.. दे रहे थे सरकार का नहीं बल्कि मौलाना साद का संदेश.. अब हिरासत में

यही वह वजह है जिसके चलते उनकी तमाम हरकतों को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। इसी के चलते मीडिया में अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग प्रकार से इसका विश्लेषण किया जा रहा है

Sudarshan News
  • Apr 9 2020 4:00PM
यही वह वजह है जिसके चलते उनकी तमाम हरकतों को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। इसी के चलते मीडिया में अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग प्रकार से इसका विश्लेषण किया जा रहा है। ऐसी तमाम संदेहास्पद हरकतों ने उनको ना सिर्फ मीडिया पुलिस सुरक्षा एजेंसियां बल्कि आम जनता की भी सोच के संदेह वाले दायरे में लाकर खड़ा कर दिया है। जब हर तरफ सरकार लोगों से सोशल डिस्टेंस बनाने की अपील कर रही है और साथ ही लोगों को अपने अपने घरों में रहने की गुजारिश भी कर रही है तब ठीक उसी समय वह सब कुछ किया जा रहा है जो निश्चित रूप से देश ही नहीं बल्कि मानवता के भी विरुद्ध है और कईयों के प्राण संकट में डालने का कुकृत्य है। ऐसा ही एक मामला फिर से आया है बिहार से.. मीडिया रिपोर्ट से मिल रही खबरों के अनुसार इस वक्त की राजधानी पटना से बड़ी खबर आ रही है जहां बुधवार की रात दिल्ली में तब्लीगी मरकज में हुई जमात में शामिल होकर लौटे मोकामा में छिपे नौ तब्लीगियों के मिलने से सनसनी फैल गई। पुलिस ने ने सभी को मेडिकल जांच के बाद क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया। पुलिस ने पहले मोहल्ले वालों की सूचना पर छह को मोकामा थाने के फारसी मोहल्ले से पकड़ा। इनसे पूछताछ के बाद अन्य तीन को हाथीदह के दरियापुर मोहल्ले से पकड़ा गया। सभी अपने घरों में छिपे हुए थे।n एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि ट्रैवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है। पकड़े गए लोगों में मो. एजाज, मो. मासूम, मो. अली, मो. परवेज, मो. अकरम, मो. मुश्ताक, मो. शाहरुख, मो. असहद और मो. अरमान हैं। पुलिस को पूछताछ में सभी ने बताया कि सभी नौ लोग पिछले दिनों निजामुद्दीन में तब्लीगी मरकज में जमात में शामिल हुए थे। लॉकडाउन के पूर्व ही दिल्ली से लौटे हैं। इस दौरान बिहटा में रहकर मरकज का संदेश पहुंचाने के लिए मस्जिदों में सभाएं भी कीं। पुलिस सूत्रों के अनुसार, ये नौ तब्लीगी फरवरी में ही मोकामा से निकले थे। ये दिल्ली गए और कुछ दिन बिहटा में भी रहे। एक अप्रैल को सभी मोकामा लौटे और घरों में छिप गए। मोकामा थानाध्यक्ष राजनंदन शर्मा और हाथीदह थानाध्यक्ष रविरंजन सिंह ने बताया कि सभी की मोकामा रेफरल अस्पताल में मेडिकल टीम से प्रारंभिक जांच कराई गई है। स्टेशन मार्ग स्थित सीसीएम विद्यालय में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में कड़ी सुरक्षा में रखा गया है। गुरुवार को गहन परीक्षण किया जाएगा। लोग और कहां-कहां गए, पुलिस इसकी पड़ताल कर रही है।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार