सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

"मेरा अख्तर सबसे अच्छा है, मुझे वह पसंद है" .. यही कहती थी भोपाल की कशिश... अब बोरे में पैक होकर नाले में मिली है उसकी लाश

हत्या के बाद आरोपी अख्तर अली ने कशिश के मामा को फोन लगा कर कहा था - मैंने तुम्हारी भांजी को मार दिया है. उसे नाले में फेंक दिया है. ढूंढ सको तो ढूंढ लो.

Abhay Pratap
  • Jul 27 2021 6:25PM

ये खबर कम से उन कूल ड्यूड टाइप हिंदू लड़कियों को जरूर पढ़नी चाहिए जो ये कहती हैं कि लव जिहाद हकीकत में कुछ नहीं होता है बल्कि ये हिंदू संगठनों द्वारा फैलाई गई थ्योरी मात्र है. मध्य प्रदेश के भोपाल की कशिश का भी यही मानना था, इसीलिये उसने अख्तर अली से दोस्ती भी कर ली थी जो प्यार में बदल गई. लेकिन अब कशिश की लाश के नाले में पड़ी मिली है. अख्तर ने कशिश को डंडे से मारा, फिर चाकुओं से गोदा तथा उसके बाद बोर में पैककर नाले में फेंक दिया तथा फरार हो गया.

भोपालके खजूरी इलाके में शनिवार को 23 साल की कशिश जायसवाल का शव बोरे में नाले में पड़ा मिला तो सनसनी फ़ैल गई. कशिश की हत्‍या उसके प्रेमी अख्तर अली ने की है, जो फिलहाल फरार है. पुलिस लगातार उसकी तलाश में जुटी है और उसके संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है. हत्या के बाद आरोपी अख्तर अली ने शुक्रवार रात ही कशिश के मामा को फोन लगा कर कहा था - मैंने तुम्हारी भांजी को मार दिया है. उसे नाले में फेंक दिया है. ढूंढ सको तो ढूंढ लो.

फोन आने के बाद मामा की शिकायत पर निशातपुरा और खजूरी थाना पुलिस ने देर रात कशिश की तलाश में जुट गई. काफी कोशिशों के बाद भी पुलिस को रात में न तो कशिश का शव मिला था और न ही कोई जानकारी. कशिश के मामा राजेश झांझा ने बताया, शुक्रवार दोपहर कशिश अख्तर अली के साथ गई थी. वह दोनों दोस्त थे, इसलिए उन्होंने उसे जाने से रोक नहीं. देर रात अख्तर ने उन्हें फोन किया तथा बोला- मैंने कशिश को जान से मार दिया है. अब तुम उसकी लाश ढूंढ सको, तो ढूंढ लो. मैंने उसका शव IISER के पास फेंक दिया है. राजेश की सूचना पर पुलिस ने खजूरी पुलिस के साथ उसकी तलाश शुरू की, लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा.

शनिवार दोपहर लोगों की सूचना पर शव पुलिस को मिला. पुलिस के अनुसार कशिश की पहले बेरहमी से पिटाई की गई. उसके सिर पर डंडा मारा गया है. घटनास्थल से भी खून से सना डंडा भी मिला है. इसके बाद आरोपी ने उसके पेट और सीने में चाकू से वार किए. हत्या के बाद अख्तर ने कशिश का शव एक बोरी में बांधकर घर से कुछ दूरी पर नाले पर फेंक दिया. आरोपी ने जो घटनास्थल बताया था, उसके आसपास पुलिस को कुछ भी नहीं मिला था. कशिश के परिजनों को भी अख्तर के घर का पता नहीं पता था. दोनों के फोन भी बंद थे. ऐसे में पुलिस कशिश की लाश या उसकी लोकेशन का पता नहीं लगा पाई.

कशिश के मामा ने बताया, वह अपने भाई और बड़ी बहन से अलग रह रही थी. उसकी मां ने दो शादियां की हैं, इसलिए वह उनके पास रह रही थी.  खजूरी थाने की TI संध्या मिश्रा ने बताया कि आरोपी यहां अकेला रह रहा था. वह प्राइवेट जॉब करता था। उसके बारे में पता लगाया जा रहा है. अब तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी है. गिरफ्तारी के प्रयास कर रहे हैं। उसके पकड़े जाने के बाद ही कारणों का पता चल सकेगा. कशिश के परिजन भी अभी कुछ स्पष्ट नहीं कह पा रहे हैं.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार