सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

जिन - जिन गद्दारों ने दी थी भगत सिंह के खिलाफ गवाही. जनिये वो कौन थे ? और क्या हुआ उनका ?

आज इतिहास को दुबारा पलटने की है जरूरत.

Rahul Pandey
  • Sep 28 2020 2:25PM
सरदार भगत सिंह.. भारतमाता का वो जांबाज सपूत जिसने देश को अंग्रेजी गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराने के लिए चरखा चलाने के बजाय युद्ध का रास्ता चुना तथा हँसते-हँसते फांसी के फंदे को चूम लिया.. उन अमर बलिदानी भगत सिंह के खिलाफ गवाही देने वालों के बारे में क्या आप जानते हैं? 

क्या आप जानते हैं कि जिन लोगों ने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी थी, उनके साथ क्या किया गया? ज्यादातर लोग शायद इस बारे में नहीं जानते होंगे, लेकिन जब आप जानेंगे तब आपक आकोश की ज्वाला में जल उठेंगे. जब भगत सिंह पर दिल्ली में अंग्रेजों की अदालत में असेंबली में बम फेंकने का केस चला तो भगत सिंह और उनके साथी बटुकेश्वर दत्त के खिलाफ गवाही देने वालों में एक शोभा सिंह थी और दुसरे थे शादी लाल.

इन दोनों ने भगत सिंह और उनके साथियों के खिलाफ गवाही दी. आपको ये सुनकर हैरानी होगी कि शोभा और शादी लाल को वतन से की गई इस गद्दारी की सजा नहीं बल्कि इनाम मिला था. दोनों को न सिर्फ सर की उपाधि दी गई बल्कि और भी दुसरे तरह के फायदे मिले. दिल्ली में शोभा सिंह को बेशुमार दौलत और करोड़ों के सरकारी निर्माण कार्यों के ठेके मिले. 

आज दिल्ली के कनौट प्लेस में स्थित सर शोभा सिंह स्कूल में कतार लगाने के बाद भी बच्चो को प्रवेश नहीं मिलता है. वहीं शादी लाल को बागपत के नजदीक अपार संपत्ति दी गई थी. आज भी श्यामली में शादी लाल के वंशजों के पास चीनी मिल और कई शराब कारखाना है. देश की जनता की नजरों में शादीलाल औरशोभा सिंह घृणा के पात्र पहले भी थे और अब भी हैं.

शादी लाल का गांव वालों ने तिरस्कार कर दिया था और उसके मरने के बाद किसी भी दुकानदार ने अपनी दुकान से उसके लिए कफन का कपड़ा तक नहीं दिया था. शादी लाल के लड़के उसके लिए कफ़न दिल्ली से खरीद कर लाए तब जाकर उसका अंतिम संस्कार हो सका था. हालांकि इस मामले में शोभा सिंह खुशनसीब रहा. उसे और उसके पिता सुजान सिंह को राजधानी दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में हजारों एकड़ जमीन मिली और खूब पैसा भी मिला.

बता दें कि उसके नाम पर पंजाब में कोट सुजान सिंह गांव और दिल्ली में सुजान सिंह पार्क भी स्थित है. वहीं शोभा के बेटे खुशवंत सिंह ने शौकिया तौर पर पत्रकारिता शुरु करके बड़ी-बड़ी हस्तियों से संबंध बनाना शुरु कर दिया. इसके आलावा शोभा सिंह के नाम से एक चैरिटबल ट्रस्ट भी स्थित है. 

दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास बाराखंबा रोड पर जिस स्कूल को मॉडर्न स्कूल कहा जाता है वह शोभा सिंह की जमीन पर ही बना हुआ है और उसे शोभा सिंह स्कूल के नाम से भी जाना जाता था. वहीं खुशवंत सिंह ने अपने संपर्कों का प्रयोग करके अपने पिता को एक देश भक्त और दूरद्रष्टा निर्माता साबित करने की काफी कोशिश भी करता रहा.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

10 Comments

Bustured Suar ki aulaad jinhone ditch Kiya.... traitors

  • Guest
  • Sep 29 2020 11:36:57:153PM

Bustured Suar ki aulaad jinhone ditch Kiya.... traitors

  • Guest
  • Sep 29 2020 11:36:44:363PM

Bustured Suar ki aulaad jinhone ditch Kiya.... traitors

  • Guest
  • Sep 29 2020 11:34:02:970PM

usme mohan das gandhi v shamil the, 98% paid media aur aise political party aaj bhi yahi kar rahe hai jo desh ko barvaad karte , desh ke dusman hai usko hero banane me koe kasar nahi chhhodte, bas publicity honi chahiye o chahe jaise ho (Arun Kumar Sharma, Faridabad)

  • Guest
  • Sep 29 2020 12:55:57:437PM

Aapne hi to gaddar the

  • Guest
  • Sep 29 2020 12:52:19:400PM

और भी है, उसी शराबी औरत बाज कांग्रेस चाटुकार खुशवंत सिंह की कपुत्री तवलीन सिंह ने पाकिस्तान के राजनेता से ठुकवाकर एक जहरिले संपोले आतिश तासीर को जन्म दिया, वह पत्रकारिता के नाम पर लंबन में भारत के खिलाफ जहर उगलता रहता है और मोदी डिवाइडर इन चीफ नामक लेख टाईम मैगजीन में उसी ने लिखा था और खुशवंत सिंह पुत्री भारत में रहकर जहर उगलती रहती है

  • Guest
  • Sep 29 2020 9:36:09:167AM

दुखद

  • Guest
  • Sep 28 2020 9:01:42:187PM

sahi jankari

  • Guest
  • Sep 28 2020 6:33:24:020PM

जय श्रीराम

  • Guest
  • Sep 28 2020 6:13:48:903PM

gaddar to gaddar hee rahega chahe sone ki lanka bhi mil jaye fir bhi deshdrohi gaddar kahalayega 'Amar shaheed Bhagat Singh Sadaa Amar hai ,aur Amar rahega aise veer saputon ki veerataa ko pure deshwasi sadaa naman karate rahenge aise veeron ki matapita dono dhanya hai unki janmbhumi dhanya hai pura desh dhanya hua "Naman Naman Naman" hai unki shaurya ko "Jai Hind"

  • Guest
  • Sep 28 2020 3:33:48:790PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार