सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

21 जनवरी- अमर योद्धा हेमू कालानी जी बलिदान दिवस.. जब अंग्रेजो ने रखे 2 मार्ग.. पहला क्रान्तिकारियो की मुखबिरी दूसरा मौत, तो खुद ही चूम लिया फांसी का फंदा

फ्रीडम फाइटर अर्थात स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बनना इतना भी आसान नही.. इसका पैमाना भी सिर्फ किताबो में नाम लिखवा लेना भी नही.. इसके लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है और सब कुछ त्यागना पड़ता है..

Rahul Pandey
  • Jan 21 2021 11:56AM

फ्रीडम फाइटर अर्थात स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बनना इतना भी आसान नही.. इसका पैमाना भी सिर्फ किताबो में नाम लिखवा लेना भी नही.. इसके लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है और सब कुछ त्यागना पड़ता है.. इसके लिए चाहिए निर्भीकता, निडरता और साहस जो सब में नही होता..

उन तमाम निडर, निर्भीक योद्धाओं में से ही एक थे अमर बलिदानी हेमू कालानी..शौर्य, शक्ति व सम्मान के अद्भुत प्रतीक हेमू कालानी जी का आज बलिदान दिवस है जिन्होंने ब्रिटिश सत्ता के खिलाफ खोल दिया था मोर्चा और जब 2 रास्ते मिले थे उनको कि मुखबिरी या मौत तो उन्होने खुद से ही आगे बढ़ कर चूम लिया था फांसी का फंदा और अमर हो गए थे करोड़ों सच्चे देशभक्तों के दिलों में सदा सदा के लिए..

देश के लिए बलिदान होने वाले अमर शहीद प्रतीक हेमू कालानी जी का आज बलिदान दिवस है ! जिन्होंने ब्रिटिश सत्ता से माफ़ी या समझौते की बजाय शहादत का रास्ता चुना ! वे हंसते-हंसते फांसी पर चढ़कर अमर हो गए ! ऐसे अमर शहीद ने आज तक करोड़ों सच्चे देशभक्तों के दिलों में सदा के लिए जो अमिट छाप छोड़ी उसे युगों तक याद किया जाता रहेगा !

हेमू कालानी का जन्म 23 मार्च 1923 को सिंध के सख्खर (वर्तमान में पाकिस्तान) में हुआ था। उनके पिताजी का नाम पेसूमल कालाणी एवं उनकी माँ का नाम जेठी बाई था। हेमू किशोरवय में ही अपने साथियों के साथ भारत के स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े। 

ये संग्राम बिना खड्ग बिना ढाल वाला कदापि नही था बल्कि इस मे जान लेेने व जान देने  दोनो का  खतरा था..सन  1942 में उन्हें यह गुप्त जानकारी मिली कि अंग्रेजी सेना की हथियारों से भरी रेलगाड़ी रोहड़ी शहर से होकर गुजरेगी तो हेमू कालाणी ने अपने साथियों के साथ रेल पटरी को अस्त व्यस्त करने की योजना बनाई.

वे यह सब कार्य अत्यंत गुप्त तरीके से कर रहे थे पर फिर भी वहां पर तैनात पुलिस कर्मियों की नजर उन पर पड़ी और उन्होंने हेमू कालाणी को गिरफ्तार कर लिया और उनके बाकी साथी फरार हो गए। हेमू कालाणी को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई।

उस समय के सिंध के गणमान्य लोगों ने एक पेटीशन दायर की और वायसराय से उनको फांसी की सजा ना देने की अपील की। वायसराय ने इस शर्त पर यह स्वीकार किया कि यदि हेमू अपने साथियों का नाम और पता बताये पर हेमू कालाणी ने यह शर्त अस्वीकार कर दी। 

आज ही के दिन अर्थात 21 जनवरी 1943 को उन्हें फांसी की सजा दे दी गई। जब फांसी से पहले उनसे आखरी इच्छा पूछी गई तो उन्होंने भारतवर्ष में फिर से जन्म लेने की इच्छा जाहिर की। इन्कलाब जिंदाबाद और भारत माता की जय वन्देमातरम की घोषणा के साथ उन्होंने फांसी को स्वीकार किया।

आज तमाम चाटुकार इतिहासकार व कई नकली कलमकारों की साजिश के शिकार उस परम बलिदानी हेमू कालानी को उनके बलिदान दिवस पर सुदर्शन परिवार बारंबार नमन और वंदन करते हुए उनकी यशगाथा को सदा सदा के लिए अमर रखने का संकल्प दोहराता है और साथ ही सवाल करता है भारत के उन तथाकथित भाग्य विधाताओं से की उन्होंने ऐसे वीर बलिदानी को इतिहास में उचित स्थान व योग्य सम्मान क्यों और किस के इशारे पर नहीं दिया ?

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार