सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Coronavirus Community Spread: क्या होता है कम्युनिटी स्प्रेड ? जानिये भारत में संक्रमण की स्थिति

फिलहाल अभी के लिए भारत की सर्वोच्च मेडिकल संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने अपनी ओर से इसका जवाब दे दिया है. IMA का मानना है कि देश इस स्थिति में पहुंच गया है. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि कम्युनिटी स्प्रेड है क्या?

Abhishek Lohia
  • Jul 20 2020 3:14PM

भारत में कोरोना वायरस के मामलों में काफी तेजी देखी जा रही है. कभी 30000 तो कभी 40000, रोजाना संक्रमण के रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं, जबकि हर दिन इस संक्रमण के कारण 500-600 लोगों की मौत हो रही है. ऐसे में अब वह डरावना सवाल फिर से उठने लगा है, जिससे अभी तक भारत सरकार इंकार कर रही थी. क्या भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन या कम्युनिटी स्प्रेड शुरू हो चुका है?  फिलहाल अभी के लिए भारत की सर्वोच्च मेडिकल संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने अपनी ओर से इसका जवाब दे दिया है. IMA का मानना है कि देश इस स्थिति में पहुंच गया है. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि कम्युनिटी स्प्रेड है क्या?

दरअसल, किसी भी अज्ञात वायरल बीमारी के संक्रमण या इसके फैलने की 4 प्रमुख स्टेज होती हैं. कोरोना वायरस के मामले में भी 4 स्टेज हैं. फिलहाल भारत स्टेज 3 को पार करके स्टेज 4 पर पहुंचने वाला है. 

पहली स्टेज- इसमें बीमारी के स्रोत का पता होता है. यानी बीमारी कहां से शुरू हुई और किन लोगों तक ये बीमारी फैली है. आम तौर पर इन लोगों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री होती है. ऐसे लोगों को और उनके संपर्क में आए लोगों को ट्रेस कर रोकथाम करने पर कम लोगों तक यह फैलती है.

दूसरी स्टेज- इस स्टेज में ऐसे लोगो संक्रमित होते हैं, जिनकी किसी संक्रमण वाले स्थान की ट्रैवल हिस्ट्री होती है और फिर उनके कारण उनके परिवार, नजदीकी लोगों में भी ये संक्रमण फैलने लगता है. इस स्थिति में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की सबसे बड़ी भूमिका होती है और कंटेनमेंट जोन या लोकल लॉकडाउन जैसे कदम उठाए जाते हैं. इसे लोकल ट्रांसमिशन कहा जाता है.

तीसरी स्टेज- इस स्टेज में किसी एक जगह में अचानक एक साथ कई सारे लोगों में संक्रमण पाया जाता है. इसमें सिर्फ ट्रैवल हिस्ट्री या संपर्क में आए लोग ही संक्रमित नहीं होते, बल्कि ऐसे लोगों में भी संक्रमण फैल जाता है, जो किसी के भी संपर्क में नहीं आए होते. इस स्थिति में वायरस को ट्रेस करना यानी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग नहीं हो पाती. यही स्थिति कम्युनिटी ट्रांसमिशन या कम्युनिटी स्प्रेड है.

IMA के मुताबिक भारत अब इसी तीसरी स्टेज में पहुंच चुका है, जहां कई इलाकों में एक साथ कई सारे संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं.

चौथी स्टेज- यह संक्रमण की सबसे आखिरी और सबसे खतरनाक स्टेज है. इस स्थिति में पहुंचकर ये बीमारी उस क्षेत्र में महामारी का रूप धारण कर लेती है और संक्रमण के मामलों में हैरतअंगेज उछाल आता है. साथ ही मरने वालों की संख्या भी एक साथ बढ़ने लगती है. इस स्टेज में बीमारी उस क्षेत्र या उस देश में पूरी तरह फैली हुई मानी जाती है.

एएनआई से बात करते हुए आईएमए (हॉस्पिटल बोर्ड ऑफ इंडिया) के अध्यक्ष डॉ वीके मोंगा ने कहा, 'यह अब घातक रफ्तार से बढ़ रहा है। हर दिन मामलों की संख्या लगभग 30,000 से अधिक आ रही है। यह देश के लिए वास्तव में एक खराब स्थिति है। कोरोना वायरस अब ग्रामीण क्षेत्रों में फैल रहा है, जो की एक बुरा संकेत है। इससे पता चलता है कि देश में कोरोना का कम्यूनिटी स्प्रेड शुरू हो चुका है।

डॉ. मोंगा ने कहा कि कोरोना महामारी के मामले कस्बों और गांवों तक पहुंच गए हैं, जहां स्थिति को नियंत्रित करना बहुत मुश्किल होगा। दिल्ली में हम इसे कंट्रोल कर रहे हैं, लेकिन महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, गोवा के अंदरूनी इलाकों का क्या होगा जो नए हॉटस्पॉट बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारों को पूरी सावधानी बरतनी चाहिए और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार की मदद लेनी चाहिए।


ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार