सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

राज्यसभा से संस्पेंड आठ सांसद रातभर संसद के बाहर धरने पर बैठे

ये वो सांसद हैं जिन पर संसद में हंगामा करने और सदन की कार्यवाही में बाधा डालने का आरोप है.

Abhishek Lohia
  • Sep 22 2020 9:47AM

राज्यसभा से निलंबित आठ सांसद संसद परिसर में सोमवार रात से धरने पर बैठे हैं. इन सांसदों को सोमवार को निलंबति कर दिया गया था. इनका धरना पूरी रात जारी रहा. निलंबित सांसद रातभर संसद परिसर में गांधी मूर्ति के पास धरना करते रहे. 

 राज्यसभा के डिप्टी हरिवंश आठों सांसदों से मिलने संसद परिसर में पहुंचे. बता दें कि राज्यसभा में रविवार को जबरदस्त हंगामा होने के एक दिन बाद राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सोमवार को कई सांसदों को सदन से निंलबित कर दिया. ये वो सांसद हैं जिन पर संसद में हंगामा करने और सदन की कार्यवाही में बाधा डालने का आरोप है.

 

इस प्रस्ताव को संसदीय मामलों के केंद्रीय राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने आगे बढ़ाया और सदन ने तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ'ब्रायन और डोला सेन, कांग्रेस के राजीव सातव, रिपुन बोरा, नासिर हुसैन, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और के.के. रागेश और माकपा के ई. करीम को निलंबित कर दिया. राज्यसभा में ध्वनि मत से प्रस्ताव मंजूर किए जाने के बाद सदस्यों ने नारेबाजी की. इससे पहले, सभापति नायडू ने कहा कि यह लोकतंत्र के लिए एक दुखद दिन है और 'दुर्भाग्यपूर्ण' और 'निंदनीय' है. उन्होंने नियमों का हवाला देते हुए उप सभापति हरिवंश नारायण सिंह के खिलाफ विपक्ष द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया.

 

राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सोमवार को राज्यसभा में हुए हंगामे की निंदा करते हुए कहा कि यह राज्यसभा के लिए सबसे खराब दिन था. उपसभापति हरिवंश को धमकी दी गई. उन्होंने कहा, "इससे मुझे बहुत दुख पहुंचा है, क्योंकि सदन में कल जो हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण, अस्वीकार्य और निंदनीय है’. नायडू ने कहा, "कुछ संसद सदस्य वेल तक जा पहुंचे और पेपर फेंका, माइक तोड़ दिया, रूलबुक को फेंक दिया. यहां तक कि उपसभापति को भी धमकी दी गई. क्या यही संसद का स्टैंडर्ड है?"

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार