सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

दिल्ली में अभी स्कूल-कॉलेज-मॉल-स्पा नहीं खुलने चाहिए, जनता ने सरकार को भेजें 5 लाख सुझाव

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आगामी लॉकडाउन के स्वरूप पर जनता से सुझाव मांगे थे.

Abhishek Lohia
  • May 14 2020 3:07PM

देश की राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आगामी लॉकडाउन के स्वरूप पर जनता से सुझाव मांगे थे. इसपर जनता की ओर से जबर्दस्त रेस्पांस मिला है. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि लॉकडाउन 4 को लेकर पांच लाख से ज्यादा सुझाव मिले हैं. उन्होंने कहा- बहुत अच्छे सुझाव मिले हैं. लोग सलून, स्पा और जिम जैसी जगह खोलने के पक्ष में नहीं हैं. ऑटो, टैक्सी और बस सेवा शुरू करने के प्रस्ताव मिले हैं. खाने की होम डिलीवरी और टेक अवे चालू करने के भी सुझाव मिले हैं.

केजरीवाल ने कहा, लोगों ने मास्क नहीं पहनने पर कार्रवाई करने का भी सुझाव दिया. दुकान खोलने को लेकर ऑड ईवन का सुझाव मिला है. बुजुर्ग, गंभीर रूप से बीमार, डायबटीज, हार्ट की बीमारी से जुड़े लोगों को घर में रहने को लेकर सलाह दी हैं.

किन मुद्दों पर आम सहमति है
केजरीवाल ने कहा, कुछ मुद्दों पर लोगों की लगभग आम सहमति भी दिखी है. ये मुद्दे हैं- जिन लोगों को भी छूट दी जाए उनके लिए सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होनी चाहिए और मास्क न पहनने वालों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. इसके अलावा ज्यादातर लोगों ने लिमिटेड सवारियों की अनुमति के साथ बस सेवा और मेट्रो सेवा शुरू करने का भी सुझाव दिया है.

हालांकि लोगों ने अपनी सेहत दुरस्त बनाए रखने के लिए कुछ रियायतें भी मांगी हैं. केजरीवाल ने कहा, सुबह पार्क में टहलने की इजाजत होनी चाहिए. सुबह योगा करने शरीर स्वस्थ रहेगा. कई मार्केट एसोसिशन ने भी दिल्ली सरकार को सुझाव भेजें हैं. उन्होंने मार्केट और मार्केट कॉम्पलेक्स खोलने की मांग की है, भले ही ऑड-ईवन योजना लागू कर दी जाए. कई लोगों ने सुझाव दिया है कि मॉल में 1/3 दुकानें या आधी दुकानें खोलनी चाहिए.

केजरीवाल ने कहा, लोगों के सुझावों पर आज शाम 4 बजे उपराज्यपाल के साथ राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक है. इसके बाद दिल्ली में कितनी ढील दी जाए, इस पर अपना प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार को भेजेंगे.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार