सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

9 अप्रैल- आज ही के दिन हत्यारे औरंगजेब ने फरमान दिया था हिन्दुओ के गुरुकुलों और मन्दिरों को ध्वस्त करने का. फिर मथुरा, सोमनाथ, काशी हो गये वीरान

दरिंदगी की पराकाष्ठा जानिये और आज भाईचारे के नकली पैरोकार दें जवाब.

Rahul Pandey
  • Apr 9 2021 12:31PM

भारत में मुगल शासकों में सबसे क्रूर औरंगजेब था। इसका पूरा नाम था मुहीउद्दीन मुहम्मद औरंगजेब जिसे इंसान के शरीर में भेड़िया भी माना जा सकता है . उसके अब्बा का नाम शाहजहां था जो खुद भी उसके कहर का शिकार बना इसकी माता का नाम मुमताज था। 

बाबर का बेटा नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूं दिल्ली के तख्त पर बैठा। हुमायूं के बाद जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, अकबर के बाद नूरुद्दीन सलीम जहांगीर, जहांगीर के बाद शाहबउद्दीन मुहम्मद शाहजहां, शाहजहां के बाद मुहीउद्दीन मुहम्मद औरंगजेब ने तख्त संभाला।

लेकिन इसके जीवन का सबसे क्रूर दिवस वो था जब इसने हिन्दुओं के कत्लेआम के साथ साथ हिन्दुओ के सभी प्रतीकों अर्थात गुरुकुलों , मन्दिरों और देवस्थलों को ध्वस्त करने का फरमान जारी किया था जिसे इसकी हत्यारी सेना ने पूरी शिद्दत से निभाया था . 

अपने देवस्थलों की रक्षा करते हुए , अपने धर्म को बचाए रखने के लिए कई धर्मनिष्ठ बलिदान भी हो गये थे .. वो दिन आज ही का था अर्थात 9 अप्रैल और सन था 1669 का .. सादगी का दिखावा करने वाला औरंगजेब सही मायने में अव्वल दर्जे का अय्याश था. उसने अपने शासन काल में क्रूरता की हद कर दी थी. 

उसने हिन्दू औरतों पर बहुत अत्याचार किए. उसका इस पर जोर रहता था कि हिन्दुओं के मरने के बाद, उनकी पत्नियां अपनी इज्ज़त बचाने के लिए आत्महत्या न कर सकें..जिससे उसकी ऐय्याशी का पता चलता है. उसने एक आक्रमणकारी की तरह देश को जमकर लूटा. रही-सही कसर उसने जजिया कर के माध्यम से पूरी की.

औरंगजेब कितना बड़ा कट्टर शासक था, इस बात को इसी से समझा जा सकता है कि, उसने हिन्दुओं को दिवाली के अवसर पर आतिशबाजी चलाने से मना कर दिया था. हिन्दुओं को शीतला माता, पीर प्रभु आदि के मेलों में इकठ्ठा न होने का हुकुम दिया और हिन्दुओं को हाथी, घोड़े की सवारी करने से भी मना कर दिया गया. 

यही नहीं उसने सभी सरकारी नौकरियों से हिन्दू क्रमचारियों को निकाल कर उनके स्थान पर मुस्लिम कर्मचारियों की भर्ती का फरमान भी जारी किया था. आज उस क्रूर मतान्ध औरंगजेब की दरिंदगी को याद करते हुए धर्मस्थलो की रक्षा में अमरता को प्राप्त हुए सभी धर्मरक्षको को शत शत नमन.. 

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

1 Comments

Naman

  • Guest
  • Apr 9 2021 12:44:44:067PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार