सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

कोरोना पर नकेल के लिए योगी का सराहनीय प्रयास... बरेली-मुरादाबाद पहुँच परखे जमीनी हालात...

स्वयं कोरोना महामारी का दंश झेलने वाले योगी आदित्यनाथ बीमारी मुक्त होने के बाद लगातार ग्राउंड जीरो पर पहुँच जान रहे हैं जमीनी हालात...

रजत के मिश्र Twitter- rajatkmishra1
  • May 8 2021 7:50PM

कोरोना आने के बाद जिस राज्य में सबसे ज्यादा केस आने की उम्मीद जताई गई थी, वो राज्य उत्तर प्रदेश था। लोग मानते थे  कि उत्तर प्रदेश की आबादी ज्यादा है तो जाहिर है संक्रमण भी तेजी में फैलेगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कारण मुख्यमंत्री योगी का प्रबंधन और सख्ती है। 24 करोड़ की आबादी होने के बाद भी उत्तर प्रदेश कोविड के मामलों और इससे हुई मौतों के मामले में देश में 14वें स्थान पर हैं। 

याद कीजिए, 13 अप्रैल की वो शाम जब मुख्यमंत्री योगी ने अपने ट्वीटर हैंडल पर खुद के पॉजिटिव होने की खबर दी थी। तब लोगों को लगा कि शायद अब उत्तर प्रदेश की स्थिति और गंभीर हो जाएगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पॉजिटिव होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर एक दिन ठीक वैसे ही प्रदेश की निगरानी की जैसे वो आम दिनों में करते थे। अगर बदला था तो वो सिर्फ मीटिंग का तरीका। मीटिंग वर्जुअली होने लगी और मुख्यमंत्री योगी ने हमेशा की तरफ कोरोना के निपटने को लेकर दिशा-निर्देश देते रहे। उनके पॉजिटिव होने पर भी किसी भी तरह उनकी मीटिंगों के दौर में कोई कमी नहीं आई। वर्चुअली होकर भी वो ग्राउंड की असलियत को समझ रहे थे।

निगेटिव आते ही पहुंचे थे अवंतिबाई अस्पताल

रिपोर्ट निगेटिव आई तो वो खुद ग्राउंड जीरो पर उतर गए और प्रदेश के हालातों का जायजा लेना शुरु कर दिया। निगेटिव रिपोर्ट आने के पहले दिन ही मुख्यमंत्री ने प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के युवाओं को लगने वाली मुफ्त वैक्सीन कार्यक्रम का शुभारंभ अवंतिबाई अस्पताल से किया। इसके बाद वो डीआरडीओ, कैंसर अस्पताल और आज बरेली व मुरादाबाद के दौरे पर निकल गए। जहां उन्होंने अधिकारियों के साथ मीटिंग कर खुद जमीन पर जाकर हालातों को परखा।

सीएम योगी की रणनीति और मेहनत लाई रंग

जाहिर है कि जब देश के तमाम हिस्सों में जहां सरकार चला रहे अगुआ अपने कमरों से बाहर नहीं निकले, वहीं मुख्यमंत्री योगी पॉज़िटिव रहते हुए भी लगातार वर्चुअल समीक्षा कर प्रदेश की जनता की सुरक्षा में जुटे रहे। सीएम की इसी मेहनत और रणनीति का परिणाम है कि प्रदेश में जहां संक्रमित मरीजों की संख्या कम हुई है, वहीं मौतों के आंकड़ों में भी कमी देखने को मिल रही है। आज उत्तर प्रदेश कोविड से जुड़े मामलों और कोविड से होने वाली मौतों के मामले में देश में सबसे बेहतर स्थिति में हैं। 24 करोड़ की आबादी होने के बाद भी मुख्यमंत्री योगी के बेहतर प्रबंधन, सख़्ती और लगातार सक्रियता ने कोरोना के केसेज़ और इससे हुई मौतों के मामले में उत्तर प्रदेश को देश में 14 वें स्थान पर ला दिया है।

गौर करने वाली बात है कि महज़ पौने दो करोड़ की आबादी के राज्य दिल्ली में उत्तर प्रदेश से 15 गुना ज़्यादा मौतें हो रही है। जबकि दिल्ली में बेहतर चिकित्सा संसाधन और उपकरण मौजूद हैं। आंकड़ों की बात करें तो एक अप्रैल से दिल्ली में प्रति मिलियन 29683 केस और 358 मौतें हुई हैं। वहीं एक अप्रैल से उत्तर प्रदेश में प्रति मिलियन 3502 केस और 25 मौतें हुई हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार