सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

क्या राजस्थान-छत्तीसगढ़ में बजेगा BJP की जीत का बिगुल?... कांग्रेस को शिकस्त देने के लिए अभी से BJP ने शुरू की तैयारी

भाजपा की रणनीति कांग्रेस से इन दोनों राज्यों को फिर से अपने पास लाने की है। भाजपा की कोशिश है कि वहां पर अपनी खोई साख और सरकार दोनों वापस ला सके। चूंकि अभी दो साल का समय है, इसलिए पार्टी के पास जमीनी काम करने का काफी समय भी है।

Geeta
  • Oct 24 2021 11:36AM

इस बार आने वाले चुनाव में बीजेपी छत्तीसगढ़ व राजस्थान दाेनाें ही राज्याें काे फिर से अपने पास लाने की काेशिश करेगी.  गाैरतलब है कि छत्तीसगढ़ व राजस्थान भाजपा के मजबूत गढ़ माने जाते हैं। भाजपा की रणनीति कांग्रेस से इन दोनों राज्यों को फिर से अपने पास लाने की है। भाजपा की कोशिश है कि वहां पर अपनी खोई साख और सरकार दोनों वापस ला सके। चूंकि अभी दो साल का समय है, इसलिए पार्टी के पास जमीनी काम करने का काफी समय भी है।

दलित और आदिवासी समुदाय से आने वाले स्थानीय नेताओं को आगे बढ़ाया जा रहा है। हालांकि काम इस तरीके से किया जा रहा है ताकि राज्य में किसी तरह की कोई गुटबाजी न पनपे और पार्टी का काम और पार्टी की जड़ें मजबूत हो सके। यह दोनों राज्य ऐसे हैं जहां भाजपा कांग्रेस में सीधा मुकाबला होता है। अन्य दल बेहद सीमित है। ऐसे में सत्ता भाजपा और कांग्रेस के बीच बंटती रहती है।

इस बार पार्टी दोनों के सामाजिक समीकरणों पर खास ध्यान दे रही है. छत्तीसगढ़ में सामाजिक समीकरण कुछ अलग है। वहां पर भाजपा पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), दलित और आदिवासी समुदायों पर ज्यादा ध्यान दे रही है। राज्य की लगभग आधी आबादी ओबीसी है। ऐसे में उसका फोकस इस बात पर ज्यादा है। गाैरतलब है कि भाजपा देश भर में शहरों के बड़े नाम वाले नेताओं से बाहर निकलकर दूरदराज के क्षेत्रों कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों से ताल्लुक रखने वाले विभिन्न सामाजिक समुदायों का प्रतिनिधित्व करने वाले नेताओं को आगे बढ़ा रही है।  

राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी पार्टी इस दिशा में काम कर रही है। राजस्थान में पार्टी राजपूत समुदाय के साथ गुर्जर, जाट और मीणा समीकरणों को साध रही है। राजस्थान में भाजपा की सबसे बड़ी नेता वसुंधरा राजे हैं। बीते सालों में पार्टी ने वसुंधरा राजे के साथ नए नेतृत्व को उभारने की कोशिश भी की थी, लेकिन उसकी एक कवायद परवान नहीं चढ़ सकी।पार्टीअब वहां पर नेतृत्व में बदलाव की जगह सामाजिक समीकरणों को साध रही है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार