सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

क्या बुलंदशहर में भी दोहराया जाएगा कानपुर ? जहां अपराधी शाहिद को पकड़ने गई पुलिस पर हुआ है जानलेवा हमला और बरसे हैं पत्थर.

या अलग - अलग चश्मे होंगे अपराध व क्षेत्र के अनुसार सज़ा तय करने के लिए ?

Rahul Pandey
  • Jul 13 2020 7:58AM
पुलिस बल के ऊपर हमला करना बड़े से बड़े अपराधी को कितना भारी पड़ता है इसका एक प्रमाण योगी सरकार ने कानपुर में दे दिया है जब ना सिर्फ विकास दुबे के पूरे परिवार बल्कि उसकी चल अचल संपत्ति को ही उसका दंड चुकाना पड़ा है। उसके कुल और खानदान की जो दशा हुई है वह यकीनन आगे किसी अपराधी को पुलिस पर हमला करने से पहले 100 नहीं बल्कि हजार बार सोचने पर विवश करेंगी। इसी के साथ माना यह जा रहा था कि बाकी जनपदों की भी पुलिस कानपुर पुलिस की तरह ही आगे बढ़ेगी पर बुलंदशहर में जो कुछ हुआ है वह एक बार फिर ख़ाकी के रुतबे पर बहुत बड़ा सवाल है।

कानपुर के बाद अब बुलंदशहर में पुलिस बल पर किया गया है बड़ा हमला जहां पुलिस की एसओजी अर्थात स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप शाहिद नाम के एक हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई तब एक संगठित समूह ने मिलकर पुलिस बल पर हमला कर दिया और पुलिस को अपनी जान बचाना भी दुश्वार लगने लगा। इसी मौके का फायदा उठाकर दुर्दांत अपराधी शाहिद नदी में कूदकर फरार हो गया और पुलिस वालों ने जैसे-तैसे अपनी जान बचाई अन्यथा उस हिंसक उन्मादी समूह के आगे एक और कानपुर लगभग तैयार हो जाता। इसी के साथ अब यह मांग पूरे देश में उठने लगी है और सवाल भी उठना शुरू हुआ है कि क्या जो सजा विकास दुबे को मिली है वहीं सजा अब बुलंदशहर का शाहिद पाएगा या कानपुर और बुलंदशहर की पुलिस में सैद्धांतिक व बुनियादी अंतर है ?

मिली जानकारी के अनुसार जिला बुलन्दशहर उत्तर प्रदेश में हिस्ट्रीशीटर शाहिद उर्फ घोड़ी का बच्चा को पकड़ने गयी SOG की टीम पर हमला। हिस्ट्रीशीटर के परिजनों व मोहल्ले के लोगों ने SOG की टीम पर कश्मीरी अंदाज़ में पथराव कर खदेड़ा था.. अपुष्ट जानकारी के अनुसार इस मामले में फायरिंग भी हुई है.. देर रात को कोतवाली नगर के मिर्चिटोला इलाके में हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई थी SOG की टीम..  इस बार भी पुलिस को चकमा दे हिस्ट्रीशीटर शाहिद उर्फ घोड़ी काली नदी में कूदकर हुआ है फरार.. बताया जा रहा है कि इस हमले में 2 सिपाही घायल हो गए हैं... पुलिस जानलेवा हमले के आरोप में 5 नामजद सहित एक दर्जन हमलावरों के खिलाफ हुई रिपोर्ट दर्ज , लेकिन सवाल यथावत है कि क्या कानपुर दोहराया जाएगा बुलंदशहर में भी या अपराध व अपराधी को देखने के 2 अलग अलग चश्मे होंगे ?.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार