सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

UN on Corona: क्या दाेहरा रहा पिछले साल जैसा मंजर? काेराेना पर यूएन की भारत काे चेतावनी- भ्रम में न रहे भारत

काेराेना के मामले जिस प्रकार से बढ़ रहे हैं उसे देख ऐसा लग रहा है कि पिछले साल जैसा मंजर एक बार फिर से दुनिया काे देखना पड़ सकता है. इसी बीच संयुक्त राष्ट्र ने भारत के लिए चेतावनी जारी की है

Geeta
  • Jan 14 2022 3:57PM

दुनिया में काेराेना एक बार फिर से तबाही मचाने काे तैयार है... ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्याेंकि काेराेना के मामले जिस प्रकार से बढ़ रहे हैं उसे देख ऐसा लग रहा है कि पिछले साल जैसा मंजर एक बार फिर से दुनिया काे देखना पड़ सकता है. इसी बीच संयुक्त राष्ट्र ने भारत के लिए चेतावनी जारी की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में पिछले साल अप्रैल-जून में 2,40,000 लोगों की मौत कोरोना के डेल्टा वैरिएंट की वजह से हुई थी।

इस वैरिएंट ने आर्थिक हालातों को भी प्रभावित किया था। दोबारा से ठीक वैसे ही हालात भारत में बन रहे हैं। ऐसे में भ्रम में रहने की जरूरत नहीं है। यहां गाैर करने वाली बात ये है कि संयुक्त राष्ट्र की यह रिपोर्ट तब सामने आई है, जब अमेरिका में ओमिक्रॉन वैरिएंट विकराल रूप धारण कर चुका है।

वहीं 'वैश्विक आर्थिक हालात एवं संभावनाएं'(डब्ल्यूईएसपी) फ्लैगशिप रिपोर्ट में कहा गया गया है कि कोरोना के बेहद संक्रामक ओमिक्रॉन स्वरूप के कारण संक्रमण की नई लहर चल पड़ी है। इसलिए यह महामारी एक बार फिर से आर्थिक हालातों और इंसानों को प्रभावित कर सकती है।

संयुक्त राष्ट्र में आर्थिक और सामाजिक मामलों की अवर महासचिव लियू झेनमिन ने कहा कि कोविड-19 से निपटना वैश्विक सहयोग के बिना संभव नहीं है। जब तक वैक्सीन सभी तक नहीं पहुंचेगी, तब तक महामारी वैश्विक अर्थव्यवस्था के सुधार के लिए सबसे बड़ा खतरा बनी रहेगी। भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अब तक 154.6 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। कोरोना की दूसरी लहर ने देशभर में कहर बरपाया था।

वहीं अगर बात करे अमेरिका में काेराेना के हालाताें की ताे जानकारी के मुताबिक, अमेरिका में गुरुवार को अस्पतालों में पिछले 24 घंटे अंदर 1,42,388 मरीज भर्ती किए गए। हालात बेकाबू होते देखकर राष्ट्रपति जो बाइडन ने मिशिगन, न्यूजर्सी, न्यू मेक्सिको, न्यूयॉर्क, ओहायो और रॉड आईलैंड के अस्पतालों में मदद के लिए सैनिक रवाना किए हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार