सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

फंड की समस्या को लेकर एमसीडी के तीनों मेयरों ने की उपराज्यपाल से मुलाकात

दिल्ली के तीनों महापौर, उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश, दक्षिण दिल्ली की महापौर अनामिका एवं पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन ने नेता प्रतिपक्ष, दिल्ली विधानसभा रामवीर सिंह विधूड़ी के साथ आज उपराज्यपाल से मिलकर उनसे तीनों निगम के वित्तीय संकट में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया।

Alok Jha
  • Oct 29 2020 7:30PM
दिल्ली के तीनों महापौर, उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश,  दक्षिण दिल्ली की महापौर अनामिका एवं पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन ने नेता प्रतिपक्ष, दिल्ली विधानसभा रामवीर सिंह विधूड़ी के साथ आज  उपराज्यपाल से मिलकर उनसे तीनों निगम के वित्तीय संकट में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया। उन्होंने पांचवे वित्त आयोग की सिफारिशों की राशि जारी करने के निगम के दावे के औचित्य के बारे में एक विस्तृत पत्र भी माननीय उपराज्यपाल अनिल बैजल को सौंपा। इस पत्र में यह भी कहा गया है कि दिल्ली सरकार द्वारा निगम का फंड रोक दिया गया जिसके बाद तीनों निगम अपने कर्मचारियों को पेंशन और वेतन देने में असमर्थ है।
        उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश ने बताया कि आज हम सब ने उपराज्यपाल महोदय से मुलाकात कर उन्हें तीनों नगर निगम के वित्तीय संकट के बारे में बताया और उनसे आग्रह किया कि वे तीनों नगर निगमों को फंड दिलवाने में सहायता करें। 
उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश ने कहा कि दिल्ली सरकार लगातार उत्तरी दिल्ली नगर निगम के फंड में कटौती कर या बकाया फंड ना देकर निगम का आर्थिक रूप से पंगु बनाना चाहती है। उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार ने वर्ष 2020-21 बीटीए का 425.06 करोड़ रू, स्वास्थ्य मद में 57.18 करोड़ रू, स्वच्छता मद में 271.80 करोड़ रू और शिक्षा मद में 201.80 करोड़ रू यानी कुल 955.84 करोड़ रू उत्तरी दिल्ली नगर निगम को नहीं दिया है। जिसके कारण कर्मचारियों को वेतन देने व विकास के कार्यों में बाधा उत्पन्न हो रही है। उन्होंने बताया कि कुल 6000 करोड रुपए दिल्ली सरकार पर उत्तरी दिल्ली नगर निगम का बकाया है।
महापौर ने कहा कि दिल्ली सरकार उत्तरी दिल्ली नगर निगम को पैसा ना देकर दिल्ली में अराजकता का माहौल पैदा करना चाहती है ताकि आगामी निगम चुनाव में वह इसका फायदा ले सकें। उन्होंने उपराज्यपाल महोदय से दिल्ली सरकार को इस संबंध में निर्देश जारी करने का आग्रह किया ताकि निगमों को उनका बकाया फंड मिल सके।

दक्षिणी दिल्ली की महापौर अनामिका ने कहा कि फंड न मिलने के कारण नगर निगम स्वच्छता, कोरोना व मच्छर जनित रोगों के नियंत्रण, नालों के निर्माण, रख-रखाव और गाद निकालने के काम तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को चलाने के अपने मुख्य दायित्व नहीं निभा पा रहे है। तीनों नगर निगम के कर्मचारी समय पर वेतन नहीं मिलने पर हड़ताल पर जा सकते हैं ऐसा होने से दिल्ली के हालात बिगड़ेंगे। उन्होंने कहा कि 5वें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार दक्षिणी निगम को वर्ष 2020-21 में लगभग 11.50 करोड़ रु के अनुदान मिलना था, लेकिन दिल्ली सरकार ने 275.46 करोड़ रु दिया है।
दक्षिणी निगम की महापौर  सुश्री अनामिका ने कहा कि  वित्तीय संकट के कारण नगर निगमों का कामकाज बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। महापौर ने कहा कि उपराज्यपाल ने धैर्यपूर्वक उनकी समस्याओं को सुना और आश्वासन दिया कि वे दिल्ली सरकार के अधिकारियों के साथ इस विषय पर चर्चा करेंगे।
इस मौके पर पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन ने कहा कि दिल्ली के तीनों नगर निगम आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे हैं कि अपने कर्मचारियों को वेतन देने की स्थिति में भी नहीं है। निर्मल जैन ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में पूर्वी दिल्ली नगर निगम का 956.35 करोड का बकाया है। इसके अलावा तीसरे और चैथे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार  2985.12 करोड रुपये का बकाया शेष है। निर्मल जैन ने दिल्ली सरकार से अनुरोध किया कि तुरंत प्रभाव से ये रकम जारी करें जिससे पूर्वी निगम अपने कर्मचारियों का वेतन दे सके।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार