सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

आम आदमी को राहत दे सकती है इस बार का बजट

कोरोना के चलते वर्ष 2020 पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था के लिए बुरे सपने से कम नही है। बहुत से सेक्टर्स कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन और फिर मांग में आई कमी के चलते जबरदस्त मंदी का सामना कर रहे हैं। ऐसे में सभी लोग यही उम्मीद लगाकर बैठे हैं कि मोदी सरकार इस बार के बजट में उन्हें कुछ रिलेक्सेशन मिल सकता है।

Alok Jha
  • Jan 15 2021 11:04PM
कोरोना महामारी के बीच मोदी सरकार अपना वार्षिक बजट पेश करने जा रही है । इस साल का बजट पिछले सभी बजटों से भिन्न होने वाला है । क्योंकि कोरोना के चलते वर्ष 2020 पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था के लिए बुरे सपने से कम नही है। बहुत से सेक्टर्स कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन और फिर मांग में आई कमी के चलते जबरदस्त मंदी का सामना कर रहे हैं। ऐसे में सभी लोग यही उम्मीद लगाकर बैठे हैं कि मोदी सरकार इस बार के बजट में उन्हें कुछ रिलेक्सेशन मिल सकता है।
एक तरफ कोरोना के कारण आई मंदी और दूसरी तरफ हेल्थ पर बढ़ा खर्चा दोनों ने ही आम आदमी की कमर बुरी तरह तोड़ दी है। ऐसे में कई अर्थशास्त्री ये मान रहे है कि मोदी सरकार जनता को राहत देने के लिए इनकम टैक्स में छूट दे सकती है। हालांकि पिछले वर्ष भी सरकार ने इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव किया था हालांकि उससे कुछ हद तक मिडिल क्लास सर्विस करने वाले लोगों को राहत मिली थी। इस बार से बजट में भी लोग कुछ वैसी ही उम्मीद लगाए हुए हैं।  विशेषज्ञों के अनुसार इस बार के बजट में जिस चीज पर सभी की नजर रहेगी, वो यह है कि कोरोना के कारण उपजे अभूतपूर्व आर्थिक हालातों का सामना करने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण क्या कदम उठाएंगी। अधिकतर का मानना है कि इंडस्ट्रीज को कोई बड़ा पैकेज दिया जा सकता है तो आम आदमी के लिए इनकम टैक्स में रिलीफ दिया जा सकता है। स्वास्थ्य सेवाओं पर भी बजट का बड़ा हिस्सा खर्च होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार